Jul 292014
 
 July 29, 2014  Ashtakam, Navagrahas No Responses »

தமிழில் சூர்யாஷ்டகம்

Surya Ashtakam in Latin Script

सूर्य अष्टकम

आदि देव नमस्तुभ्यं प्रसीद ममभास्करः। दिवाकर नमस्तुभ्यं प्रभाकर नमोऽस्तुते।।

सप्ताश्वरथ मारूढं प्रचण्डं कश्यपात्मजम्। श्वेत पद्म धरं देवं तं सूर्य प्रणमाम्यहम्।।

लोहितं रथमारूढं सर्वलोकपितामहम्। महापाप हरं देवं तं सूर्य प्रणमाम्यहम्।।

त्रैगुण्यं च महाशूरं ब्रह्मा विष्णुमहेश्वरम्। महापाप हरं देवं तं सूर्य प्रणमाम्यहम्।।

वृहितं तेजः पुंजच वायुमाकाश मेवच। प्रभुंच सर्वलोकानां तं सूर्य प्रणमाम्यहम्।।

बन्धूक पुष्प संकाशं हार कुण्डल भूषितम्। एक चक्र धरं देवं तं सूर्य प्रणमाम्यहम्।।

तं सूर्य जगत् कर्तारं महातेजः प्रदीपनम्। महापाप हरं देवं तं सूर्य प्रणमाम्यहम्।।

तं सूर्य जगतां नाथं ज्ञान विज्ञानमोक्षदम्। महापाप हरं देवं तं सूर्य प्रणमाम्यहम्।।

ऊॅं पूर्णमदः पूर्णमिदं पूर्णात्पूर्ण मुदच्यते। पूर्णस्य पूर्ण मादाय पूर्ण मेवा व शिष्यते।।

ऊॅं शान्तिः शान्तिः शान्तिः

फल स्रुथी

सूर्य-अष्टकम पठेत नित्यम ग्रह-पीडा प्रणाशनम । अपुत्र: लभते पुत्रम दरिद्र: धनवान भवेत ॥

आमिषम मधुपानम च य: करोति रवे: दिने । सप्त जन्म भवेत रोगी प्रतिजन्म दरिद्रता ॥

स्त्री तैल मधु मांसानि य: त्यजेत तु रवेर दिने । न व्याधि: शोक दारिद्रयम सूर्यलोकम गच्छति ॥