Jun 282017
 

Asya Sri Maha Lakshmi Kavcha Maha mantrasya Brahma Rishi, Gayathri Chanda,

Mahalakshmir devatha, Maha Lakshmir preethyarthe Jape Viniyoga.

Indra Uvacha:-

Samastha kavachanaam thu thejaswi, Kavachothamam,

Aathma rakshanam, araogyam, sathyam, thwam broohi geeshpathe. 1

Sri Gurur Uvacha:-

Maha lakshmyasthu kavacham pravakshyami sama satha,

Chathur dasasu lokeshu rahasyam brahmanoditham. 2

Brahmo Uvacha:-

Siro may Vishnu Pathni cha, lalatam amruthoth bhava,

Chakshushi suvisalakshi, sravane Sagarambuja. 3

Granam pathu vararoho, jihwam aamnaya roopini,

Mukham pathu maha Lakshmi, kantam vaikunta vasini. 4

Skandhou may janaki pathu, bhujou bhargava nandini,

Bahu dhvow dhravini pathu, karou hari varangana. 5

Vaksha pahu cha sridevi, hrudayam hari sundari,

Kukshim cha Vaishnavi pathu, nabhim bhuvana mathruka. 6

Katim cha pathu varahi, sakthini deva devatha,

OOru Narayani pathu, Janunee chandra sodhari. 7

Indira pathu Jange may, padhou bhaktha Namaskrutha,

Nakhaan Thejaswini pathu, Sarvangam karunamyi. 8

Brahmana loka rakshartham nirmitham Kavacham sriya,

Yea padanthi mahathmanasthe, cha dhanya Jagat traye. 9

Kavachenavruthanaam jananam, jayadha sada,

Matheva sarva sukhada, Bhava thwam aamareswari. 10

Bhooya sidhamavapnothi, poorvoktham brahmana swayam,

Lakshmeer hari Priya padma, yetan nama thrayam smaran. 11

Namathrayamidham japthwa sa yathi paramaam sriyam,

Ya padethsa cha dharmathma, sarvan kamanvapnuyath. 12

Ithi Brahma purane Indro upadishtam Maha Lakshmi kavacham Sampoornam.

Jun 282017
 

॥ ஶ்ரீமஹாலக்ஷ்மீகவசம் ॥

ஶ்ரீ க³ணேஶாய நம: ।
அஸ்ய ஶ்ரீமஹாலக்ஷ்மீகவசமந்த்ரஸ்ய ப்³ரஹ்மா ருʼஷி: கா³யத்ரீ ச²ந்த:³
மஹாலக்ஷ்மீர்தே³வதா மஹாலக்ஷ்மீப்ரீத்யர்த²ம் ஜபே வினியோக:³ ।
இந்த்³ர உவாச । ஸமஸ்தகவசாநாம் து தேஜஸ்வி கவசோத்தமம் ।
ஆத்மரக்ஷணமாரோக்³யம் ஸத்யம் த்வம் ப்³ரூஹி கீ³ஷ்பதே ॥ 1॥

ஶ்ரீகு³ருருவாச । மஹாலக்ஷ்ம்யாஸ்து கவசம் ப்ரவக்ஷ்யாமி ஸமாஸத: ।
சதுர்த³ஶஸு லோகேஷு ரஹஸ்யம் ப்³ரஹ்மணோதி³தம் ॥ 2॥

ப்³ரஹ்மோவாச । ஶிரோ மே விஷ்ணுபத்னீ ச லலாடமம்ருʼதோத்³ப⁴வா ।
சக்ஷுஷீ ஸுவிஶாலாக்ஷீ ஶ்ரவணே ஸாக³ராம்பு³ஜா ॥ 3॥

க்⁴ராணம் பாது வராரோஹா ஜிஹ்வாமாம்னாயரூபிணீ ।
முக²ம் பாது மஹாலக்ஷ்மீ: கண்ட²ம் வைகுண்ட²வாஸினீ ॥ 4॥

ஸ்கந்தௌ⁴ மே ஜானகீ பாது பு⁴ஜௌ பா⁴ர்க³வனந்தி³னீ ।
பா³ஹூ த்³வௌ த்³ரவிணீ பாது கரௌ ஹரிவராங்க³னா ॥ 5॥

வக்ஷ: பாது ச ஶ்ரீர்தே³வீ ஹ்ருʼத³யம் ஹரிஸுந்த³ரீ ।
குக்ஷிம் ச வைஷ்ணவீ பாது நாபி⁴ம் பு⁴வனமாத்ருʼகா ॥ 6॥

கடிம் ச பாது வாராஹீ ஸக்தி²னீ தே³வதே³வதா ।
ஊரூ நாராயணீ பாது ஜானுனீ சந்த்³ரஸோத³ரீ ॥ 7॥

இந்தி³ரா பாது ஜங்கே⁴ மே பாதௌ³ ப⁴க்தனமஸ்க்ருʼதா ।
நகா²ன் தேஜஸ்வினீ பாது ஸர்வாங்க³ம் கரூணாமயீ ॥ 8॥

ப்³ரஹ்மணா லோகரக்ஷார்த²ம் நிர்மிதம் கவசம் ஶ்ரிய: ।
யே பட²ந்தி மஹாத்மானஸ்தே ச த⁴ன்யா ஜக³த்த்ரயே ॥ 9॥

கவசேனாவ்ருʼதாங்க³நாம் ஜனாநாம் ஜயதா³ ஸதா³ ।
மாதேவ ஸர்வஸுக²தா³ ப⁴வ த்வமமரேஶ்வரீ ॥ 10॥

பூ⁴ய: ஸித்³தி⁴மவாப்னோதி பூர்வோக்தம் ப்³ரஹ்மணா ஸ்வயம் ।
லக்ஷ்மீர்ஹரிப்ரியா பத்³மா ஏதன்நாமத்ரயம் ஸ்மரன் ॥ 11॥

நாமத்ரயமித³ம் ஜப்த்வா ஸ யாதி பரமாம் ஶ்ரியம் ।
ய: படே²த்ஸ ச த⁴ர்மாத்மா ஸர்வான்காமானவாப்னுயாத் ॥ 12॥

॥ இதி ஶ்ரீப்³ரஹ்மபுராணே இந்த்³ரோபதி³ஷ்டம் மஹாலக்ஷ்மீகவசம் ஸம்பூர்ணம் ॥

 

Jun 282017
 
॥ श्री महालक्ष्मीकवचम् ॥

श्री गणेशाय नमः ।
अस्य श्रीमहालक्ष्मीकवचमन्त्रस्य ब्रह्मा ऋषिः गायत्री छन्दः
महालक्ष्मीर्देवता महालक्ष्मीप्रीत्यर्थं जपे विनियोगः ।
इन्द्र उवाच । समस्तकवचानां तु तेजस्वि कवचोत्तमम् ।
आत्मरक्षणमारोग्यं सत्यं त्वं ब्रूहि गीष्पते ॥ १॥



श्रीगुरुरुवाच । महालक्ष्म्यास्तु कवचं प्रवक्ष्यामि समासतः ।
चतुर्दशसु लोकेषु रहस्यं ब्रह्मणोदितम् ॥ २॥

ब्रह्मोवाच । शिरो मे विष्णुपत्नी च ललाटममृतोद्भवा ।
चक्षुषी सुविशालाक्षी श्रवणे सागराम्बुजा ॥ ३॥

घ्राणं पातु वरारोहा जिह्वामाम्नायरूपिणी ।
मुखं पातु महालक्ष्मीः कण्ठं वैकुण्ठवासिनी ॥ ४॥

स्कन्धौ मे जानकी पातु भुजौ भार्गवनन्दिनी ।
बाहू द्वौ द्रविणी पातु करौ हरिवराङ्गना ॥ ५॥

वक्षः पातु च श्रीर्देवी हृदयं हरिसुन्दरी ।
कुक्षिं च वैष्णवी पातु नाभिं भुवनमातृका ॥ ६॥

कटिं च पातु वाराही सक्थिनी देवदेवता ।
ऊरू नारायणी पातु जानुनी चन्द्रसोदरी ॥ ७॥

इन्दिरा पातु जंघे मे पादौ भक्तनमस्कृता ।
नखान् तेजस्विनी पातु सर्वाङ्गं करूणामयी ॥ ८॥

ब्रह्मणा लोकरक्षार्थं निर्मितं कवचं श्रियः ।
ये पठन्ति महात्मानस्ते च धन्या जगत्त्रये ॥ ९॥

कवचेनावृताङ्गनां जनानां जयदा सदा ।
मातेव सर्वसुखदा भव त्वममरेश्वरी ॥ १०॥

भूयः सिद्धिमवाप्नोति पूर्वोक्तं ब्रह्मणा स्वयम् ।
लक्ष्मीर्हरिप्रिया पद्मा एतन्नामत्रयं स्मरन् ॥ ११॥

नामत्रयमिदं जप्त्वा स याति परमां श्रियम् ।
यः पठेत्स च धर्मात्मा सर्वान्कामानवाप्नुयात् ॥ १२॥

॥ इति श्रीब्रह्मपुराणे इन्द्रोपदिष्टं महालक्ष्मीकवचं सम्पूर्णम् ॥
Jun 242017
 

ரசன: றுஷி மார்கம்டேய

மார்கம்டேய உவாச

னாராயணம் பரப்ரஹ்ம ஸர்வகாரண காரகம்
ப்ரபத்யே வெம்கடேஶாக்யாம் ததேவ கவசம் மம

ஸஹஸ்ரஶீர்ஷா புருஷோ வேம்கடேஶஶ்ஶிரோ வது
ப்ராணேஶஃ ப்ராணனிலயஃ ப்ராணாண் ரக்ஷது மே ஹரிஃ

ஆகாஶராட் ஸுதானாத ஆத்மானம் மே ஸதாவது
தேவதேவோத்தமோபாயாத்தேஹம் மே வேம்கடேஶ்வரஃ

ஸர்வத்ர ஸர்வகாலேஷு மம்காம்பாஜானிஶ்வரஃ
பாலயேன்மாம் ஸதா கர்மஸாபல்யம் னஃ ப்ரயச்சது

ய ஏதத்வஜ்ரகவசமபேத்யம் வேம்கடேஶிதுஃ
ஸாயம் ப்ராதஃ படேன்னித்யம் ம்றுத்யும் தரதி னிர்பயஃ

இதி ஶ்ரீ வெம்கடேஸ்வர வஜ்ரகவசஸ்தோத்ரம் ஸம்பூர்ணம் ||

Jun 242017
 

Sri Venkateswara Vajrakavacha Stotram literally means “The Diamond Armour of Venkateswara”. This composition of Sage Markandeya, if chanted regularly provides ultimate protection to the devotee. Lord Venkateshwara is also known as Bhaktavatsala , the One who always blesses his Devotees. Lord Venkateswara protects the devotee from various malefic effects and troubles.

Narayanam Parabrahma Sarvakaarana Kaaranam

Prapadye Venkatesakhyaam Tadeva Kavacham Mama

Sahasra Seersha Purusho Venkatesas Sirovatu

Pranesha Prananilayaha Pranan Rakshatu Mey Harihi

Aakasa Raat Sutaa Naatha Aatmanam Me Sadavatu

Deva Devottamaha Payaad Deham Mey Venkateswaraha

Sarvatra Sarva Karyeshu Mangaam Baja Nireeswaraha

Palayen Mama Kam Karma Saphalyam Naha Prayacchatu

Ya Etad Vajra Kavacha Mabhedyam Venkates Situhu

Sayam Prataha Patennityam Mrutyum Tarati Nirbhyaha

Iti Markandeya Kruta

Venkateswara Vajra Kavacham Sampoornam

Jun 242017
 

रचन: ऋषि मार्कण्डेय

नारायणं परब्रह्म सर्वकारण कारकं
प्रपद्ये वेङ्कटेशाख्यां तदेव कवचं मम

सहस्रशीर्षा पुरुषो वेङ्कटेशश्शिरो वतु
प्राणेशः प्राणनिलयः प्राणाण् रक्षतु मे हरिः

आकाशराट् सुतानाथ आत्मानं मे सदावतु
देवदेवोत्तमोपायाद्देहं मे वेङ्कटेश्वरः

सर्वत्र सर्वकालेषु मङ्गाम्बाजानिश्वरः
पालयेन्मां सदा कर्मसाफल्यं नः प्रयच्छतु

य एतद्वज्रकवचमभेद्यं वेङ्कटेशितुः
सायं प्रातः पठेन्नित्यं मृत्युं तरति निर्भयः

इति श्री वेङ्कटेस्वर वज्रकवचस्तोत्रं सम्पूर्णम् ॥