Aug 052017
 

Soundarya Lahari 3

For Attaining knowledge

Soundarya Lahari sloka 3 Yantra

Soundarya Lahari sloka 3 Yantra

Mode of worship: The Yantra is to be made of gold. Be seated facing North-East. And chant the sloka everyday for 45, 54 or 15 days 2000 times per day. Also do an archana with white flowers such as jasmine while chanting Lalitha Thrishathi

Archana: Chant Lalitha Trishathi offering white flowers such as jasmine, etc.

Offerings: Cooked rice, cakes of black gram, honey and betels with slices of areca nut.

Benefits: By chanting this sloka one attains knowledge. Recitation of this sloka is a helps improve ones memory and ability to comprehend things quickly. It is facilitates improved performance levels for students. Recite at least 11 times daily to bring significant improvement in the performance of a “not so bright” pupil. This is also a prayer to Varahara Avatharam of Lord Vishnu.

avidyānā-manta-stimira-mihira dvīpanagarī

jaḍānāṃ caitanya-stabaka makaranda śrutijharī |

daridrāṇāṃ cintāmaṇi guṇanikā janmajaladhau

nimagnānāṃ daṃṣṭrā muraripu varāhasya bhavati|| 3 ||

अविद्यानामन्तस्तिमिरमिहिर द्वीपनगरी

जडानां चैतन्यस्तबक मकरन्द श्रुतिझरी ।

दरिद्राणां चिन्तामणि गुणनिका जन्मजलधौ

निमग्नानां दंष्ट्रा मुररिपु वराहस्य भवति॥ 3

அவித்யானாமன்தஸ்திமிரமிஹிர த்வீபனகரீ

ஜடானாம் சைதன்யஸ்தபக மகரன்த ஶ்ருதிஜரீ |

தரித்ராணாம் சின்தாமணி குணனிகா ஜன்மஜலதௌ

னிமக்னானாம் தம்ஷ்ட்ரா முரரிபு வராஹஸ்ய பவதி|| 3 ||

Mar 172014
 

Ashtalakshmi Stotram is addressed to the the eight different forms of Lakshmi. Lakshmi is considered as one who showers Aishwaryam or prosperity on Her devotees. Prosperity or Aishwaryam does not mean just financial riches. It is all riches; riches of happiness, good health, physical strength, valour, food, children, education, knowledge & intelligence and success in all endeavours. Thus by chanting this stotram one can attain all the good things in life.

Ashtalakshmi Stotram in Latin Script

दॅवनागरी मे अष्टलक्ष्मी स्तोत्रम्

 



ஆதிலக்ஷ்மி
ஸுமனஸ வம்தித ஸும்தரி மாதவி, சம்த்ர ஸஹொதரி ஹேமமயே
முனிகண வம்தித மோக்ஷப்ரதாயனி, மம்ஜுல பாஷிணி வேதனுதே |
பம்கஜவாஸினி தேவ ஸுபூஜித, ஸத்குண வர்ஷிணி ஶாம்தியுதே
ஜய ஜயஹே மதுஸூதன காமினி, ஆதிலக்ஷ்மி பரிபாலய மாம் || 1 ||

தான்யலக்ஷ்மி
அயிகலி கல்மஷ னாஶினி காமினி, வைதிக ரூபிணி வேதமயே
க்ஷீர ஸமுத்பவ மம்கள ரூபிணி, மம்த்ரனிவாஸினி மம்த்ரனுதே |
மம்களதாயினி அம்புஜவாஸினி, தேவகணாஶ்ரித பாதயுதே
ஜய ஜயஹே மதுஸூதன காமினி, தான்யலக்ஷ்மி பரிபாலய மாம் || 2 ||

தைர்யலக்ஷ்மி
ஜயவரவர்ஷிணி வைஷ்ணவி பார்கவி, மம்த்ர ஸ்வரூபிணி மம்த்ரமயே
ஸுரகண பூஜித ஶீக்ர பலப்ரத, ஜ்ஞான விகாஸினி ஶாஸ்த்ரனுதே |
பவபயஹாரிணி பாபவிமோசனி, ஸாது ஜனாஶ்ரித பாதயுதே
ஜய ஜயஹே மது ஸூதன காமினி, தைர்யலக்ஷ்மீ பரிபாலய மாம் || 3 ||

கஜலக்ஷ்மி
ஜய ஜய துர்கதி னாஶினி காமினி, ஸர்வபலப்ரத ஶாஸ்த்ரமயே
ரதகஜ துரகபதாதி ஸமாவ்றுத, பரிஜன மம்டித லோகனுதே |
ஹரிஹர ப்ரஹ்ம ஸுபூஜித ஸேவித, தாப னிவாரிணி பாதயுதே
ஜய ஜயஹே மதுஸூதன காமினி, கஜலக்ஷ்மீ ரூபேண பாலய மாம் || 4 ||

ஸம்தானலக்ஷ்மி
அயிகக வாஹினி மோஹினி சக்ரிணி, ராகவிவர்தினி ஜ்ஞானமயே
குணகணவாரதி லோகஹிதைஷிணி, ஸப்தஸ்வர பூஷித கானனுதே |
ஸகல ஸுராஸுர தேவ முனீஶ்வர, மானவ வம்தித பாதயுதே
ஜய ஜயஹே மதுஸூதன காமினி, ஸம்தானலக்ஷ்மீ பரிபாலய மாம் || 5 ||

விஜயலக்ஷ்மி
ஜய கமலாஸினி ஸத்கதி தாயினி, ஜ்ஞானவிகாஸினி கானமயே
அனுதின மர்சித கும்கும தூஸர, பூஷித வாஸித வாத்யனுதே |
கனகதராஸ்துதி வைபவ வம்தித, ஶம்கரதேஶிக மான்யபதே
ஜய ஜயஹே மதுஸூதன காமினி, விஜயலக்ஷ்மீ பரிபாலய மாம் || 6 ||

வித்யாலக்ஷ்மி
ப்ரணத ஸுரேஶ்வரி பாரதி பார்கவி, ஶோகவினாஶினி ரத்னமயே
மணிமய பூஷித கர்ணவிபூஷண, ஶாம்தி ஸமாவ்றுத ஹாஸ்யமுகே |
னவனிதி தாயினி கலிமலஹாரிணி, காமித பலப்ரத ஹஸ்தயுதே
ஜய ஜயஹே மதுஸூதன காமினி, வித்யாலக்ஷ்மீ ஸதா பாலய மாம் || 7 ||

தனலக்ஷ்மி
திமிதிமி திம்திமி திம்திமி-திம்திமி, தும்துபி னாத ஸுபூர்ணமயே
குமகும கும்கும கும்கும கும்கும, ஶம்க னினாத ஸுவாத்யனுதே |
வேத பூராணேதிஹாஸ ஸுபூஜித, வைதிக மார்க ப்ரதர்ஶயுதே
ஜய ஜயஹே மதுஸூதன காமினி, தனலக்ஷ்மி ரூபேணா பாலய மாம் || 8 ||

பலஶ்றுதி
ஶ்லோ|| அஷ்டலக்ஷ்மீ னமஸ்துப்யம் வரதே காமரூபிணி |
விஷ்ணுவக்ஷஃ ஸ்தலா ரூடே பக்த மோக்ஷ ப்ரதாயினி ||

ஶ்லோ|| ஶம்க சக்ரகதாஹஸ்தே விஶ்வரூபிணிதே ஜயஃ |
ஜகன்மாத்ரே ச மோஹின்யை மம்களம் ஶுப மம்களம் ||


ஆதிலக்ஷ்மி
ஸுமனஸ வம்தித ஸும்தரி மாதவி, சம்த்ர ஸஹொதரி ஹேமமயே
முனிகண வம்தித மோக்ஷப்ரதாயனி, மம்ஜுல பாஷிணி வேதனுதே |
பம்கஜவாஸினி தேவ ஸுபூஜித, ஸத்குண வர்ஷிணி ஶாம்தியுதே
ஜய ஜயஹே மதுஸூதன காமினி, ஆதிலக்ஷ்மி பரிபாலய மாம் || 1 ||

தான்யலக்ஷ்மி
அயிகலி கல்மஷ னாஶினி காமினி, வைதிக ரூபிணி வேதமயே
க்ஷீர ஸமுத்பவ மம்கள ரூபிணி, மம்த்ரனிவாஸினி மம்த்ரனுதே |
மம்களதாயினி அம்புஜவாஸினி, தேவகணாஶ்ரித பாதயுதே
ஜய ஜயஹே மதுஸூதன காமினி, தான்யலக்ஷ்மி பரிபாலய மாம் || 2 ||

தைர்யலக்ஷ்மி
ஜயவரவர்ஷிணி வைஷ்ணவி பார்கவி, மம்த்ர ஸ்வரூபிணி மம்த்ரமயே
ஸுரகண பூஜித ஶீக்ர பலப்ரத, ஜ்ஞான விகாஸினி ஶாஸ்த்ரனுதே |
பவபயஹாரிணி பாபவிமோசனி, ஸாது ஜனாஶ்ரித பாதயுதே
ஜய ஜயஹே மது ஸூதன காமினி, தைர்யலக்ஷ்மீ பரிபாலய மாம் || 3 ||

கஜலக்ஷ்மி
ஜய ஜய துர்கதி னாஶினி காமினி, ஸர்வபலப்ரத ஶாஸ்த்ரமயே
ரதகஜ துரகபதாதி ஸமாவ்றுத, பரிஜன மம்டித லோகனுதே |
ஹரிஹர ப்ரஹ்ம ஸுபூஜித ஸேவித, தாப னிவாரிணி பாதயுதே
ஜய ஜயஹே மதுஸூதன காமினி, கஜலக்ஷ்மீ ரூபேண பாலய மாம் || 4 ||

ஸம்தானலக்ஷ்மி
அயிகக வாஹினி மோஹினி சக்ரிணி, ராகவிவர்தினி ஜ்ஞானமயே
குணகணவாரதி லோகஹிதைஷிணி, ஸப்தஸ்வர பூஷித கானனுதே |
ஸகல ஸுராஸுர தேவ முனீஶ்வர, மானவ வம்தித பாதயுதே
ஜய ஜயஹே மதுஸூதன காமினி, ஸம்தானலக்ஷ்மீ பரிபாலய மாம் || 5 ||

விஜயலக்ஷ்மி
ஜய கமலாஸினி ஸத்கதி தாயினி, ஜ்ஞானவிகாஸினி கானமயே
அனுதின மர்சித கும்கும தூஸர, பூஷித வாஸித வாத்யனுதே |
கனகதராஸ்துதி வைபவ வம்தித, ஶம்கரதேஶிக மான்யபதே
ஜய ஜயஹே மதுஸூதன காமினி, விஜயலக்ஷ்மீ பரிபாலய மாம் || 6 ||

வித்யாலக்ஷ்மி
ப்ரணத ஸுரேஶ்வரி பாரதி பார்கவி, ஶோகவினாஶினி ரத்னமயே
மணிமய பூஷித கர்ணவிபூஷண, ஶாம்தி ஸமாவ்றுத ஹாஸ்யமுகே |
னவனிதி தாயினி கலிமலஹாரிணி, காமித பலப்ரத ஹஸ்தயுதே
ஜய ஜயஹே மதுஸூதன காமினி, வித்யாலக்ஷ்மீ ஸதா பாலய மாம் || 7 ||

தனலக்ஷ்மி
திமிதிமி திம்திமி திம்திமி-திம்திமி, தும்துபி னாத ஸுபூர்ணமயே
குமகும கும்கும கும்கும கும்கும, ஶம்க னினாத ஸுவாத்யனுதே |
வேத பூராணேதிஹாஸ ஸுபூஜித, வைதிக மார்க ப்ரதர்ஶயுதே
ஜய ஜயஹே மதுஸூதன காமினி, தனலக்ஷ்மி ரூபேணா பாலய மாம் || 8 ||

பலஶ்றுதி
ஶ்லோ|| அஷ்டலக்ஷ்மீ னமஸ்துப்யம் வரதே காமரூபிணி |
விஷ்ணுவக்ஷஃ ஸ்தலா ரூடே பக்த மோக்ஷ ப்ரதாயினி ||

ஶ்லோ|| ஶம்க சக்ரகதாஹஸ்தே விஶ்வரூபிணிதே ஜயஃ |
ஜகன்மாத்ரே ச மோஹின்யை மம்களம் ஶுப மம்களம் ||

 

 

Mar 172014
 

Ashtalakshmi Stotram is addressed to the the eight different forms of Lakshmi. Lakshmi is considered as one who showers Aishwaryam or prosperity on Her devotees. Prosperity or Aishwaryam does not mean just financial riches. It is all riches; riches of happiness, good health, physical strength, valour, food, children, education, knowledge & intelligence and success in all endeavours. Thus by chanting this stotram one can attain all the good things in life.

ASHTALAKSHMI STOTRAM IN Latin Script

தமிழில் அஷ்டலக்ஷ்மீ ஸ்தோத்ரம்

आदिलक्ष्मि
सुमनस वन्दित सुन्दरि माधविचन्द्र सहोदरि हेममये 
मुनिगण वन्दित मोक्षप्रदायनिमञ्जुल भाषिणि वेदनुते । 
पङ्कजवासिनि देव सुपूजितसद्गुण वर्षिणि शान्तियुते 
जय जयहे मधुसूदन कामिनिआदिलक्ष्मि परिपालय माम् ॥ 

धान्यलक्ष्मि
अयिकलि कल्मष नाशिनि कामिनिवैदिक रूपिणि वेदमये 
क्षीर समुद्भव मङ्गल रूपिणिमन्त्रनिवासिनि मन्त्रनुते ।
मङ्गलदायिनि अम्बुजवासिनिदेवगणाश्रित पादयुते 
जय जयहे मधुसूदन कामिनिधान्यलक्ष्मि परिपालय माम् ॥ 

धैर्यलक्ष्मि
जयवरवर्षिणि वैष्णवि भार्गविमन्त्र स्वरूपिणि मन्त्रमये 
सुरगण पूजित शीघ्र फलप्रदज्ञान विकासिनि शास्त्रनुते । 
भवभयहारिणि पापविमोचनिसाधु जनाश्रित पादयुते 
जय जयहे मधु सूधन कामिनिधैर्यलक्ष्मी परिपालय माम् ॥ 

गजलक्ष्मि
जय जय दुर्गति नाशिनि कामिनिसर्वफलप्रद शास्त्रमये 
रधगज तुरगपदाति समावृतपरिजन मण्डित लोकनुते । 
हरिहर ब्रह्म सुपूजित सेवितताप निवारिणि पादयुते 
जय जयहे मधुसूदन कामिनिगजलक्ष्मी रूपेण पालय माम् ॥ 

सन्तानलक्ष्मि
अयिखग वाहिनि मोहिनि चक्रिणिरागविवर्धिनि ज्ञानमये 
गुणगणवारधि लोकहितैषिणिसप्तस्वर भूषित गाननुते ।
सकल सुरासुर देव मुनीश्वरमानव वन्दित पादयुते 
जय जयहे मधुसूदन कामिनिसन्तानलक्ष्मी परिपालय माम् ॥ 

विजयलक्ष्मि
जय कमलासिनि सद्गति दायिनिज्ञानविकासिनि गानमये 
अनुदिन मर्चित कुङ्कुम धूसरभूषित वासित वाद्यनुते । 
कनकधरास्तुति वैभव वन्दितशङ्करदेशिक मान्यपदे 
जय जयहे मधुसूदन कामिनिविजयलक्ष्मी परिपालय माम् ॥ 

विद्यालक्ष्मि
प्रणत सुरेश्वरि भारति भार्गविशोकविनाशिनि रत्नमये 
मणिमय भूषित कर्णविभूषणशान्ति समावृत हास्यमुखे ।
नवनिधि दायिनि कलिमलहारिणिकामित फलप्रद हस्तयुते 
जय जयहे मधुसूदन कामिनिविद्यालक्ष्मी सदा पालय माम् ॥ 

धनलक्ष्मि
धिमिधिमि धिन्धिमि धिन्धिमिदिन्धिमिदुन्धुभि नाद सुपूर्णमये 
घुमघुम घुङ्घुम घुङ्घुम घुङ्घुमशङ्ख निनाद सुवाद्यनुते ।
वेद पूराणेतिहास सुपूजितवैदिक मार्ग प्रदर्शयुते 
जय जयहे मधुसूदन कामिनिधनलक्ष्मि रूपेणा पालय माम् ॥ 

फलशृति
श्लो॥ अष्टलक्ष्मी नमस्तुभ्यं वरदे कामरूपिणि । 
विष्णुवक्षः स्थला रूढे भक्त मोक्ष प्रदायिनि ॥

श्लो॥ शङ्ख चक्रगदाहस्ते विश्वरूपिणिते जयः ।
जगन्मात्रे च मोहिन्यै मङ्गलं शुभ मङ्गलम् ॥

 

Mar 162014
 

Click here for Devanagari script (Sanskrit)

Click here for Tamil script

oṃ sarasvatyai namaḥ
oṃ mahābhadrāyai namaḥ
oṃ mahamāyāyai namaḥ
oṃ varapradāyai namaḥ
oṃ padmanilayāyai namaḥ
oṃ padmā kṣraiya namaḥ
oṃ padmavaktrāyai namaḥ
oṃ śivānujāyai namaḥ
oṃ pusta kadhrate namaḥ
oṃ ṅñāna samudrāyai namaḥ ||10 ||
oṃ ramāyai namaḥ
oṃ parāyai namaḥ
oṃ kāmara rūpāyai namaḥ
oṃ mahā vidyāyai namaḥ
oṃ mahāpāta kanāśinyai namaḥ
oṃ mahāśrayāyai namaḥ
oṃ mālinyai namaḥ
oṃ mahābhogāyai namaḥ
oṃ mahābhujāyai namaḥ
oṃ mahābhāgyāyai namaḥ || 20 ||
oṃ mahotsāhāyai namaḥ
oṃ divyāṅgāyai namaḥ
oṃ suravanditāyai namaḥ
oṃ mahākāḷyai namaḥ
oṃ mahāpāśāyai namaḥ
oṃ mahākārāyai namaḥ
oṃ mahāṅkuśāyai namaḥ
oṃ sītāyai namaḥ
oṃ vimalāyai namaḥ
oṃ viśvāyai namaḥ || 30 ||
oṃ vidyunmālāyai namaḥ
oṃ vaiṣṇavyai namaḥ
oṃ candrikāyyai namaḥ
oṃ candravadanāyai namaḥ
oṃ candra lekhāvibhūṣitāyai namaḥ
oṃ sāvitryai namaḥ
oṃ surasāyai namaḥ
oṃ devyai namaḥ
oṃ divyālaṅkāra bhūṣitāyai namaḥ
oṃ vāgdevyai namaḥ || 40 ||
oṃ vasudhāyyai namaḥ
oṃ tīvrāyai namaḥ
oṃ mahābhadrāyai namaḥ
oṃ mahā balāyai namaḥ
oṃ bhogadāyai namaḥ
oṃ bhāratyai namaḥ
oṃ bhāmāyai namaḥ
oṃ govindāyai namaḥ
oṃ gomatyai namaḥ
oṃ śivāyai namaḥ
oṃ jaṭilāyai namaḥ
oṃ vindhyavāsāyai namaḥ
oṃ vindhyācala virājitāyai namaḥ
oṃ caṇḍi kāyai namaḥ
oṃ vaiṣṇavyai namaḥ
oṃ brāhmyai namaḥ
oṃ brahmaṅñā naikasādhanāyai namaḥ
oṃ saudāmānyai namaḥ
oṃ sudhā mūrtyai namaḥ
oṃ subhadrāyai namaḥ || 60 ||
oṃ sura pūjitāyai namaḥ
oṃ suvāsinyai namaḥ
oṃ sunāsāyai namaḥ
oṃ vinidrāyai namaḥ
oṃ padmalocanāyai namaḥ
oṃ vidyā rūpāyai namaḥ
oṃ viśālākṣyai namaḥ
oṃ brahmājāyāyai namaḥ
oṃ mahā phalāyai namaḥ
oṃ trayīmūrtyai namaḥ || 70 ||
oṃ trikālaṅñāye namaḥ
oṃ triguṇāyai namaḥ
oṃ śāstra rūpiṇyai namaḥ
oṃ śumbhā surapramadinyai namaḥ
oṃ śubhadāyai namaḥ
oṃ sarvātmikāyai namaḥ
oṃ rakta bījanihantryai namaḥ
oṃ cāmuṇḍāyai namaḥ
oṃ ambikāyai namaḥ
oṃ mānṇākāya praharaṇāyai namaḥ || 80 ||
oṃ dhūmralocanamardanāyai namaḥ
oṃ sarvade vastutāyai namaḥ
oṃ saumyāyai namaḥ
oṃ surā sura namaskratāyai namaḥ
oṃ kāḷa rātryai namaḥ
oṃ kalādhārāyai namaḥ
oṃ rūpasaubhāgyadāyinyai namaḥ
oṃ vāgdevyai namaḥ
oṃ varārohāyai namaḥ
oṃ vārāhyai namaḥ || 90 ||
oṃ vāri jāsanāyai namaḥ
oṃ citrāmbarāyai namaḥ
oṃ citra gandhā yai namaḥ
oṃ citra mālya vibhūṣitāyai namaḥ
oṃ kāntāyai namaḥ
oṃ kāmapradāyai namaḥ
oṃ vandyāyai namaḥ
oṃ vidyādhara supūjitāyai namaḥ
oṃ śvetānanāyai namaḥ
oṃ nīlabhujāyai namaḥ || 100 ||
oṃ caturvarga phalapradāyai namaḥ
oṃ caturānana sāmrājyai namaḥ
oṃ rakta madhyāyai namaḥ
oṃ nirañjanāyai namaḥ
oṃ haṃsāsanāyai namaḥ
oṃ nīlañjaṅghāyai namaḥ
oṃ śrī pradāyai namaḥ
oṃ brahmaviṣṇu śivātmikāyai namaḥ || 108 ||

Mar 162014
 

Click here for Devanagari script (Sanskrit)

Click here for Latin Script

ஓம் ஸரஸ்வத்யை னமஃ
ஓம் மஹாபத்ராயை னமஃ
ஓம் மஹமாயாயை னமஃ
ஓம் வரப்ரதாயை னமஃ
ஓம் பத்மனிலயாயை னமஃ
ஓம் பத்மா க்ஷ்ரைய னமஃ
ஓம் பத்மவக்த்ராயை னமஃ
ஓம் ஶிவானுஜாயை னமஃ
ஓம் புஸ்த கத்ரதே னமஃ
ஓம் ஜ்ஞான ஸமுத்ராயை னமஃ ||10 ||
ஓம் ரமாயை னமஃ
ஓம் பராயை னமஃ
ஓம் காமர ரூபாயை னமஃ
ஓம் மஹா வித்யாயை னமஃ
ஓம் மஹாபாத கனாஶின்யை னமஃ
ஓம் மஹாஶ்ரயாயை னமஃ
ஓம் மாலின்யை னமஃ
ஓம் மஹாபோகாயை னமஃ
ஓம் மஹாபுஜாயை னமஃ
ஓம் மஹாபாக்யாயை னமஃ || 20 ||
ஓம் மஹொத்ஸாஹாயை னமஃ
ஓம் திவ்யாம்காயை னமஃ
ஓம் ஸுரவம்திதாயை னமஃ
ஓம் மஹாகாள்யை னமஃ
ஓம் மஹாபாஶாயை னமஃ
ஓம் மஹாகாராயை னமஃ
ஓம் மஹாம்குஶாயை னமஃ
ஓம் ஸீதாயை னமஃ
ஓம் விமலாயை னமஃ
ஓம் விஶ்வாயை னமஃ || 30 ||
ஓம் வித்யுன்மாலாயை னமஃ
ஓம் வைஷ்ணவ்யை னமஃ
ஓம் சம்த்ரிகாய்யை னமஃ
ஓம் சம்த்ரவதனாயை னமஃ
ஓம் சம்த்ர லேகாவிபூஷிதாயை னமஃ
ஓம் ஸாவித்ர்யை னமஃ
ஓம் ஸுரஸாயை னமஃ
ஓம் தேவ்யை னமஃ
ஓம் திவ்யாலம்கார பூஷிதாயை னமஃ
ஓம் வாக்தேவ்யை னமஃ || 40 ||
ஓம் வஸுதாய்யை னமஃ
ஓம் தீவ்ராயை னமஃ
ஓம் மஹாபத்ராயை னமஃ
ஓம் மஹா பலாயை னமஃ
ஓம் போகதாயை னமஃ
ஓம் பாரத்யை னமஃ
ஓம் பாமாயை னமஃ
ஓம் கோவிம்தாயை னமஃ
ஓம் கோமத்யை னமஃ
ஓம் ஶிவாயை னமஃ
ஓம் ஜடிலாயை னமஃ
ஓம் விம்த்யவாஸாயை னமஃ
ஓம் விம்த்யாசல விராஜிதாயை னமஃ
ஓம் சம்டி காயை னமஃ
ஓம் வைஷ்ணவ்யை னமஃ
ஓம் ப்ராஹ்ம்யை னமஃ
ஓம் ப்ரஹ்மஜ்ஞா னைகஸாதனாயை னமஃ
ஓம் ஸௌதாமான்யை னமஃ
ஓம் ஸுதா மூர்த்யை னமஃ
ஓம் ஸுபத்ராயை னமஃ || 60 ||
ஓம் ஸுர பூஜிதாயை னமஃ
ஓம் ஸுவாஸின்யை னமஃ
ஓம் ஸுனாஸாயை னமஃ
ஓம் வினித்ராயை னமஃ
ஓம் பத்மலோசனாயை னமஃ
ஓம் வித்யா ரூபாயை னமஃ
ஓம் விஶாலாக்ஷ்யை னமஃ
ஓம் ப்ரஹ்மாஜாயாயை னமஃ
ஓம் மஹா பலாயை னமஃ
ஓம் த்ரயீமூர்த்யை னமஃ || 70 ||
ஓம் த்ரிகாலஜ்ஞாயே னமஃ
ஓம் த்ரிகுணாயை னமஃ
ஓம் ஶாஸ்த்ர ரூபிண்யை னமஃ
ஓம் ஶும்பா ஸுரப்ரமதின்யை னமஃ
ஓம் ஶுபதாயை னமஃ
ஓம் ஸர்வாத்மிகாயை னமஃ
ஓம் ரக்த பீஜனிஹம்த்ர்யை னமஃ
ஓம் சாமும்டாயை னமஃ
ஓம் அம்பிகாயை னமஃ
ஓம் மான்ணாகாய ப்ரஹரணாயை னமஃ || 80 ||
ஓம் தூம்ரலோசனமர்தனாயை னமஃ
ஓம் ஸர்வதே வஸ்துதாயை னமஃ
ஓம் ஸௌம்யாயை னமஃ
ஓம் ஸுரா ஸுர னமஸ்க்ரதாயை னமஃ
ஓம் காள ராத்ர்யை னமஃ
ஓம் கலாதாராயை னமஃ
ஓம் ரூபஸௌபாக்யதாயின்யை னமஃ
ஓம் வாக்தேவ்யை னமஃ
ஓம் வராரோஹாயை னமஃ
ஓம் வாராஹ்யை னமஃ || 90 ||
ஓம் வாரி ஜாஸனாயை னமஃ
ஓம் சித்ராம்பராயை னமஃ
ஓம் சித்ர கம்தா யை னமஃ
ஓம் சித்ர மால்ய விபூஷிதாயை னமஃ
ஓம் காம்தாயை னமஃ
ஓம் காமப்ரதாயை னமஃ
ஓம் வம்த்யாயை னமஃ
ஓம் வித்யாதர ஸுபூஜிதாயை னமஃ
ஓம் ஶ்வேதானனாயை னமஃ
ஓம் னீலபுஜாயை னமஃ || 100 ||
ஓம் சதுர்வர்க பலப்ரதாயை னமஃ
ஓம் சதுரானன ஸாம்ராஜ்யை னமஃ
ஓம் ரக்த மத்யாயை னமஃ
ஓம் னிரம்ஜனாயை னமஃ
ஓம் ஹம்ஸாஸனாயை னமஃ
ஓம் னீலம்ஜம்காயை னமஃ
ஓம் ஶ்ரீ ப்ரதாயை னமஃ
ஓம் ப்ரஹ்மவிஷ்ணு ஶிவாத்மிகாயை னமஃ || 108 ||

 

Mar 162014
 

Click here for Latin Script

Click here for Tamil script

 

ॐ सरस्वत्यै नमः |

ॐ महाभद्रायै नमः |

ॐ महामायायै नमः |

ॐ वरप्रदायै नमः |

ॐ श्रीप्रदायै नमः |

ॐ पद्मनिलयायै नमः |

ॐ पद्माक्ष्यै नमः |

ॐ पद्मवक्त्रायै नमः |

ॐ शिवानुजायै नमः |

ॐ पुस्तकभृते नमः | १०

ॐ ज्ञानमुद्रायै नमः |

ॐ रमायै नमः |

ॐ परायै नमः |

ॐ कामरूपायै नमः |

ॐ महाविद्यायै नमः |

ॐ महापातक नाशिन्यै नमः |

ॐ महाश्रयायै नमः |

ॐ मालिन्यै नमः |

ॐ महाभोगायै नमः |

ॐ महाभुजायै नमः | २०

ॐ महाभागायै नमः |

ॐ महोत्साहायै नमः |

ॐ दिव्याङ्गायै नमः |

ॐ सुरवन्दितायै नमः |

ॐ महाकाल्यै नमः |

ॐ महापाशायै नमः |

ॐ महाकारायै नमः |

ॐ महांकुशायै नमः |

ॐ पीतायै नमः |

ॐ विमलायै नमः | ३०

ॐ विश्वायै नमः |

ॐ विद्युन्मालायै नमः |

ॐ वैष्णव्यै नमः |

ॐ चन्द्रिकायै नमः |

ॐ चन्द्रवदनायै नमः |

ॐ चन्द्रलेखाविभूषितायै नमः |

ॐ सावित्र्यै नमः |

ॐ सुरसायै नमः |

ॐ देव्यै नमः |

ॐ दिव्यालंकारभूषितायै नमः | ४०

ॐ वाग्देव्यै नमः |

ॐ वसुधायै नमः |

ॐ तीव्रायै नमः |

ॐ महाभद्रायै नमः |

ॐ महाबलायै नमः |

ॐ भोगदायै नमः |

ॐ भारत्यै नमः |

ॐ भामायै नमः |

ॐ गोविन्दायै नमः |

ॐ गोमत्यै नमः | ५०

ॐ शिवायै नमः |

ॐ जटिलायै नमः |

ॐ विन्ध्यावासायै नमः |

ॐ विन्ध्याचलविराजितायै नमः |

ॐ चण्डिकायै नमः |

ॐ वैष्णव्यै नमः |

ॐ ब्राह्मयै नमः |

ॐ ब्रह्मज्ञानैकसाधनायै नमः |

ॐ सौदामिन्यै नमः |

ॐ सुधामूर्त्यै नमः | ६०

ॐ सुभद्रायै नमः |

ॐ सुरपूजितायै नमः |

ॐ सुवासिन्यै नमः |

ॐ सुनासायै नमः |

ॐ विनिद्रायै नमः |

ॐ पद्मलोचनायै नमः |

ॐ विद्यारूपायै नमः |

ॐ विशालाक्ष्यै नमः |

ॐ ब्रह्मजायायै नमः |

ॐ महाफलायै नमः | ७०

ॐ त्रयीमूर्त्यै नमः |

ॐ त्रिकालज्ञायै नमः |

ॐ त्रिगुणायै नमः |

ॐ शास्त्ररूपिण्यै नमः |

ॐ शुम्भासुरप्रमथिन्यै नमः |

ॐ शुभदायै नमः |

ॐ स्वरात्मिकायै नमः |

ॐ रक्तबीजनिहन्त्र्यै नमः |

ॐ चामुण्डायै नमः |

ॐ अम्बिकायै नमः | ८०

ॐ मुण्डकायप्रहरणायै नमः |

ॐ धूम्रलोचनमर्दनायै नमः |

ॐ सर्वदेवस्तुतायै नमः |

ॐ सौम्यायै नमः |

ॐ सुरासुर नमस्कृतायै नमः |

ॐ कालरात्र्यै नमः |

ॐ कलाधारायै नमः |

ॐ रूपसौभाग्यदायिन्यै नमः |

ॐ वाग्देव्यै नमः |

ॐ वरारोहायै नमः | ९०

ॐ वाराह्यै नमः |

ॐ वारिजासनायै नमः |

ॐ चित्राम्बरायै नमः |

ॐ चित्रगन्धायै नमः |

ॐ चित्रमाल्यविभूषितायै नमः |

ॐ कान्तायै नमः |

ॐ कामप्रदायै नमः |

ॐ वन्द्यायै नमः |

ॐ विद्याधरसुपूजितायै नमः |

ॐ श्वेताननायै नमः | १००

ॐ नीलभुजायै नमः |

ॐ चतुर्वर्गफलप्रदायै नमः |

ॐ चतुरानन साम्राज्यायै नमः |

ॐ रक्तमध्यायै नमः |

ॐ निरंजनायै नमः |

ॐ हंसासनायै नमः |

ॐ नीलजङ्घायै नमः |

ॐ ब्रह्मविष्णुशिवान्मिकायै नमः | १०८

||इति श्री सरस्वति अष्टोत्तरशत नामावलिः ||

Mar 152014
 

 

Click here for Latin script

Click here to read in Sanskrit (Devanagari)

Saraswathi Stothram was written by Agasthya Maharishi. Here is the stothram in Tamil.  Temples for Goddess Saraswathi is rare too. Here is a link to know more about Saraswathi temple at Koothanur near Kumbakonam.

ஸரஸ்வதி ஸ்தோத்ரம்

யா கும்தேம்து துஷாரஹாரதவளா யா ஶுப்ரவஸ்த்ராவ்றுதா
யா வீணாவரதம்டமம்டிதகரா யா ஶ்வேதபத்மாஸனா |
யா ப்ரஹ்மாச்யுத ஶம்கரப்ரப்றுதிபிர்தேவைஸ்ஸதா பூஜிதா
ஸா மாம் பாது ஸரஸ்வதீ பகவதீ னிஶ்ஶேஷஜாட்யாபஹா || 1 ||

தோர்பிர்யுக்தா சதுர்பிஃ ஸ்படிகமணினிபை ரக்ஷமாலாம்ததானா
ஹஸ்தேனைகேன பத்மம் ஸிதமபிச ஶுகம் புஸ்தகம் சாபரேண |
பாஸா கும்தேம்துஶம்கஸ்படிகமணினிபா பாஸமானாஸமானா
ஸா மே வாக்தேவதேயம் னிவஸது வதனே ஸர்வதா ஸுப்ரஸன்னா || 2 ||

ஸுராஸுரைஸ்ஸேவிதபாதபம்கஜா கரே விராஜத்கமனீயபுஸ்தகா |
விரிம்சிபத்னீ கமலாஸனஸ்திதா ஸரஸ்வதீ ன்றுத்யது வாசி மே ஸதா || 3 ||

ஸரஸ்வதீ ஸரஸிஜகேஸரப்ரபா தபஸ்வினீ ஸிதகமலாஸனப்ரியா |
கனஸ்தனீ கமலவிலோலலோசனா மனஸ்வினீ பவது வரப்ரஸாதினீ || 4 ||

ஸரஸ்வதி னமஸ்துப்யம் வரதே காமரூபிணி |
வித்யாரம்பம் கரிஷ்யாமி ஸித்திர்பவது மே ஸதா || 5 ||

ஸரஸ்வதி னமஸ்துப்யம் ஸர்வதேவி நமோ நமஹ|
ஶாம்தரூபே ஶஶிதரே ஸர்வயோகே நமோ நமஹ|| 6 ||

னித்யானம்தே னிராதாரே னிஷ்களாயை நமோ நமஹ|
வித்யாதரே விஶாலாக்ஷி ஶுத்தஜ்ஞானே நமோ நமஹ|| 7 ||

ஶுத்தஸ்படிகரூபாயை ஸூக்ஷ்மரூபே நமோ நமஹ|
ஶப்தப்ரஹ்மி சதுர்ஹஸ்தே ஸர்வஸித்த்யை நமோ நமஹ|| 8 ||

முக்தாலம்க்றுத ஸர்வாம்க்யை மூலாதாரே நமோ நமஹ|
மூலமம்த்ரஸ்வரூபாயை மூலஶக்த்யை நமோ நமஹ|| 9 ||

மனோன்மனி மஹாபோகே வாகீஶ்வரி நமோ நமஹ|
வாக்ம்யை வரதஹஸ்தாயை வரதாயை நமோ நமஹ|| 10 ||

வேதாயை வேதரூபாயை வேதாம்தாயை நமோ நமஹ|
குணதோஷவிவர்ஜின்யை குணதீப்த்யை நமோ நமஹ|| 11 ||

ஸர்வஜ்ஞானே ஸதானம்தே ஸர்வரூபே நமோ நமஹ|
ஸம்பன்னாயை குமார்யை ச ஸர்வஜ்ஞே தே நமோ நமஹ|| 12 ||

யோகானார்ய உமாதேவ்யை யோகானம்தே நமோ நமஹ|
திவ்யஜ்ஞான த்ரினேத்ராயை திவ்யமூர்த்யை நமோ நமஹ|| 13 ||

அர்தசம்த்ரஜடாதாரி சம்த்ரபிம்பே நமோ நமஹ|
சம்த்ராதித்யஜடாதாரி சம்த்ரபிம்பே நமோ நமஹ|| 14 ||

அணுரூபே மஹாரூபே விஶ்வரூபே நமோ நமஹ|
அணிமாத்யஷ்டஸித்தாயை ஆனம்தாயை நமோ நமஹ|| 15 ||

ஜ்ஞான விஜ்ஞான ரூபாயை ஜ்ஞானமூர்தே நமோ நமஹ|
னானாஶாஸ்த்ர ஸ்வரூபாயை னானாரூபே நமோ நமஹ|| 16 ||

பத்மஜா பத்மவம்ஶா ச பத்மரூபே நமோ நமஹ|
பரமேஷ்ட்யை பராமூர்த்யை னமஸ்தே பாபனாஶினீ || 17 ||

மஹாதேவ்யை மஹாகாள்யை மஹாலக்ஷ்ம்யை நமோ நமஹ|
ப்ரஹ்மவிஷ்ணுஶிவாயை ச ப்ரஹ்மனார்யை நமோ நமஹ|| 18 ||

கமலாகரபுஷ்பா ச காமரூபே நமோ நமஹ|
கபாலிகர்மதீப்தாயை கர்மதாயை நமோ நமஹ|| 19 ||

ஸாயம் ப்ராதஃ படேன்னித்யம் ஷண்மாஸாத்ஸித்திருச்யதே |
சோரவ்யாக்ரபயம் னாஸ்தி படதாம் ஶ்றுண்வதாமபி || 20 ||

இத்தம் ஸரஸ்வதீ ஸ்தோத்ரமகஸ்த்யமுனி வாசகம் |
ஸர்வஸித்திகரம் ன்றூணாம் ஸர்வபாபப்ரணாஶனம் || 21 ||

 

 

Mar 152014
 

 Click here for Tamil Script

Click here to read in Latin script

Saraswathi Stothram was written by Agasthya Maharishi. Here is the stothram in Devanagari.  Temples for Goddess Saraswathi is rare too. Here is a link to know more about Saraswathi temple at Koothanur near Kumbakonam.

सरस्वति स्तोत्रम्

या कुन्देन्दु तुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता
या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना ।
या ब्रह्माच्युत शङ्करप्रभृतिभिर्देवैस्सदा पूजिता
सा मां पातु सरस्वती भगवती निश्शेषजाड्यापहा ॥ 1 ॥

दोर्भिर्युक्ता चतुर्भिः स्फटिकमणिनिभै रक्षमालान्दधाना
हस्तेनैकेन पद्मं सितमपिच शुकं पुस्तकं चापरेण ।
भासा कुन्देन्दुशङ्खस्फटिकमणिनिभा भासमानाज़्समाना
सा मे वाग्देवतेयं निवसतु वदने सर्वदा सुप्रसन्ना ॥ 2 ॥

सुरासुरैस्सेवितपादपङ्कजा करे विराजत्कमनीयपुस्तका ।
विरिञ्चिपत्नी कमलासनस्थिता सरस्वती नृत्यतु वाचि मे सदा ॥ 3 ॥

सरस्वती सरसिजकेसरप्रभा तपस्विनी सितकमलासनप्रिया ।
घनस्तनी कमलविलोललोचना मनस्विनी भवतु वरप्रसादिनी ॥ 4 ॥

सरस्वति नमस्तुभ्यं वरदे कामरूपिणि ।
विद्यारम्भं करिष्यामि सिद्धिर्भवतु मे सदा ॥ 5 ॥

सरस्वति नमस्तुभ्यं सर्वदेवि नमो नमः ।
शान्तरूपे शशिधरे सर्वयोगे नमो नमः ॥ 6 ॥

नित्यानन्दे निराधारे निष्कलायै नमो नमः ।
विद्याधरे विशालाक्षि शुद्धज्ञाने नमो नमः ॥ 7 ॥

शुद्धस्फटिकरूपायै सूक्ष्मरूपे नमो नमः ।
शब्दब्रह्मि चतुर्हस्ते सर्वसिद्ध्यै नमो नमः ॥ 8 ॥

मुक्तालङ्कृत सर्वाङ्ग्यै मूलाधारे नमो नमः ।
मूलमन्त्रस्वरूपायै मूलशक्त्यै नमो नमः ॥ 9 ॥

मनोन्मनि महाभोगे वागीश्वरि नमो नमः ।
वाग्म्यै वरदहस्तायै वरदायै नमो नमः ॥ 10 ॥

वेदायै वेदरूपायै वेदान्तायै नमो नमः ।
गुणदोषविवर्जिन्यै गुणदीप्त्यै नमो नमः ॥ 11 ॥

सर्वज्ञाने सदानन्दे सर्वरूपे नमो नमः ।
सम्पन्नायै कुमार्यै च सर्वज्ञे ते नमो नमः ॥ 12 ॥

योगानार्य उमादेव्यै योगानन्दे नमो नमः ।
दिव्यज्ञान त्रिनेत्रायै दिव्यमूर्त्यै नमो नमः ॥ 13 ॥

अर्धचन्द्रजटाधारि चन्द्रबिम्बे नमो नमः ।
चन्द्रादित्यजटाधारि चन्द्रबिम्बे नमो नमः ॥ 14 ॥

अणुरूपे महारूपे विश्वरूपे नमो नमः ।
अणिमाद्यष्टसिद्धायै आनन्दायै नमो नमः ॥ 15 ॥

ज्ञान विज्ञान रूपायै ज्ञानमूर्ते नमो नमः ।
नानाशास्त्र स्वरूपायै नानारूपे नमो नमः ॥ 16 ॥

पद्मजा पद्मवंशा च पद्मरूपे नमो नमः ।
परमेष्ठ्यै परामूर्त्यै नमस्ते पापनाशिनी ॥ 17 ॥

महादेव्यै महाकाल्यै महालक्ष्म्यै नमो नमः ।
ब्रह्मविष्णुशिवायै च ब्रह्मनार्यै नमो नमः ॥ 18 ॥

कमलाकरपुष्पा च कामरूपे नमो नमः ।
कपालिकर्मदीप्तायै कर्मदायै नमो नमः ॥ 19 ॥

सायं प्रातः पठेन्नित्यं षण्मासात्सिद्धिरुच्यते ।
चोरव्याघ्रभयं नास्ति पठतां शृण्वतामपि ॥ 20 ॥

इत्थं सरस्वती स्तोत्रमगस्त्यमुनि वाचकम् ।
सर्वसिद्धिकरं नॄणां सर्वपापप्रणाशनम् ॥ 21 ॥

 

Mar 152014
 

Click here for Tamil Script

Click here to read in Sanskrit (Devanagari)

Saraswathi Stothram was written by Agasthya Maharishi. Here is the stothram in english script (Roman). Temples for Goddess Saraswathi is rare too. Here is a link to know more about Saraswathi temple at Koothanur near Kumbakonam.

yaa kuMdEMdu tuShaarahaaradhavaLaa yaa SubhravastraavRutaa
yaa veeNaavaradaMDamaMDitakaraa yaa SvEtapadmaasanaa |
yaa brahmaacyuta SaMkaraprabhRutibhirdEvaissadaa poojitaa
saa maaM paatu sarasvatee bhagavatee niSSEShajaaDyaapahaa || 1 ||

dOrbhiryuktaa caturbhiH sphaTikamaNinibhai rakShamaalaaMdadhaanaa
hastEnaikEna padmaM sitamapica SukaM pustakaM caaparENa |
bhaasaa kuMdEMduSaMkhasphaTikamaNinibhaa bhaasamaanaazsamaanaa
saa mE vaagdEvatEyaM nivasatu vadanE sarvadaa suprasannaa || 2 ||

suraasuraissEvitapaadapaMkajaa karE viraajatkamaneeyapustakaa |
viriMcipatnee kamalaasanasthitaa sarasvatee nRutyatu vaaci mE sadaa || 3 ||

sarasvatee sarasijakEsaraprabhaa tapasvinee sitakamalaasanapriyaa |
ghanastanee kamalavilOlalOcanaa manasvinee bhavatu varaprasaadinee || 4 ||

sarasvati namastubhyaM varadE kaamaroopiNi |
vidyaaraMbhaM kariShyaami siddhirbhavatu mE sadaa || 5 ||

sarasvati namastubhyaM sarvadEvi namO namaH |
SaaMtaroopE SaSidharE sarvayOgE namO namaH || 6 ||

nityaanaMdE niraadhaarE niShkaLaayai namO namaH |
vidyaadharE viSaalaakShi SuddhagnyaanE namO namaH || 7 ||

SuddhasphaTikaroopaayai sookShmaroopE namO namaH |
Sabdabrahmi caturhastE sarvasiddhyai namO namaH || 8 ||

muktaalaMkRuta sarvaaMgyai moolaadhaarE namO namaH |
moolamaMtrasvaroopaayai moolaSaktyai namO namaH || 9 ||

manOnmani mahaabhOgE vaageeSvari namO namaH |
vaagmyai varadahastaayai varadaayai namO namaH || 10 ||

vEdaayai vEdaroopaayai vEdaaMtaayai namO namaH |
guNadOShavivarjinyai guNadeeptyai namO namaH || 11 ||

sarvagnyaanE sadaanaMdE sarvaroopE namO namaH |
saMpannaayai kumaaryai ca sarvagnyE tE namO namaH || 12 ||

yOgaanaarya umaadEvyai yOgaanaMdE namO namaH |
divyagnyaana trinEtraayai divyamoortyai namO namaH || 13 ||

ardhacaMdrajaTaadhaari caMdrabiMbE namO namaH |
caMdraadityajaTaadhaari caMdrabiMbE namO namaH || 14 ||

aNuroopE mahaaroopE viSvaroopE namO namaH |
aNimaadyaShTasiddhaayai aanaMdaayai namO namaH || 15 ||

gnyaana vignyaana roopaayai gnyaanamoortE namO namaH |
naanaaSaastra svaroopaayai naanaaroopE namO namaH || 16 ||

padmajaa padmavaMSaa ca padmaroopE namO namaH |
paramEShThyai paraamoortyai namastE paapanaaSinee || 17 ||

mahaadEvyai mahaakaaLyai mahaalakShmyai namO namaH |
brahmaviShNuSivaayai ca brahmanaaryai namO namaH || 18 ||

kamalaakarapuShpaa ca kaamaroopE namO namaH |
kapaalikarmadeeptaayai karmadaayai namO namaH || 19 ||

saayaM praataH paThEnnityaM ShaNmaasaatsiddhirucyatE |
cOravyaaghrabhayaM naasti paThataaM SRuNvataamapi || 20 ||

itthaM sarasvatee stOtramagastyamuni vaacakam |
sarvasiddhikaraM nRooNaaM sarvapaapapraNaaSanam || 21 ||

 

 

Mar 152014
 

Click here for Latin script

Click here for tamil script

 

आनन्द लहरि

भुमौस्खलित पादानाम् भूमिरेवा वलम्बनम् ।
त्वयी जाता पराधानाम् त्वमेव शरणम् शिवे ॥

शिवः शक्त्या युक्तो यदि भवति शक्तः प्रभवितुं
न चेदेवं देवो न खलु कुशलः स्पन्दितुमपि।
अतस्त्वाम् आराध्यां हरि-हर-विरिन्चादिभि रपि
प्रणन्तुं स्तोतुं वा कथ-मक्र्त पुण्यः प्रभवति॥ 1 ॥

तनीयांसुं पांसुं तव चरण पङ्केरुह-भवं
विरिञ्चिः सञ्चिन्वन् विरचयति लोका-नविकलम् ।
वहत्येनं शौरिः कथमपि सहस्रेण शिरसां
हरः सङ्क्षुद्-यैनं भजति भसितोद्धूल नविधिम्॥ 2 ॥

अविद्याना-मन्त-स्तिमिर-मिहिर द्वीपनगरी
जडानां चैतन्य-स्तबक मकरन्द श्रुतिझरी ।
दरिद्राणां चिन्तामणि गुणनिका जन्मजलधौ
निमग्नानां दंष्ट्रा मुररिपु वराहस्य भवति॥ 3 ॥

त्वदन्यः पाणिभया-मभयवरदो दैवतगणः
त्वमेका नैवासि प्रकटित-वरभीत्यभिनया ।
भयात् त्रातुं दातुं फलमपि च वांछासमधिकं
शरण्ये लोकानां तव हि चरणावेव निपुणौ ॥ 4 ॥

हरिस्त्वामारध्य प्रणत-जन-सौभाग्य-जननीं
पुरा नारी भूत्वा पुररिपुमपि क्षोभ मनयत् ।
स्मरो‌உपि त्वां नत्वा रतिनयन-लेह्येन वपुषा
मुनीनामप्यन्तः प्रभवति हि मोहाय महताम् ॥ 5 ॥

धनुः पौष्पं मौर्वी मधुकरमयी पञ्च विशिखाः
वसन्तः सामन्तो मलयमरु-दायोधन-रथः ।
तथाप्येकः सर्वं हिमगिरिसुते कामपि कृपां
अपाङ्गात्ते लब्ध्वा जगदिद-मनङ्गो विजयते ॥ 6 ॥

क्वणत्काञ्ची-दामा करि कलभ कुम्भ-स्तननता
परिक्षीणा मध्ये परिणत शरच्चन्द्र-वदना ।
धनुर्बाणान् पाशं सृ॒णिमपि दधाना करतलैः
पुरस्ता दास्तां नः पुरमथितु राहो-पुरुषिका ॥ 7 ॥

सुधासिन्धोर्मध्ये सुरविट-पिवाटी-परिवृते
मणिद्वीपे नीपो-पवनवति चिन्तामणि गृहे ।
शिवकारे मञ्चे परमशिव-पर्यङ्क निलयाम्
भजन्ति त्वां धन्याः कतिचन चिदानन्द-लहरीम् ॥ 8 ॥

महीं मूलाधारे कमपि मणिपूरे हुतवहं
स्थितं स्वधिष्टाने हृदि मरुत-माकाश-मुपरि ।
मनो‌உपि भ्रूमध्ये सकलमपि भित्वा कुलपथं
सहस्रारे पद्मे स हरहसि पत्या विहरसे ॥ 9 ॥

सुधाधारासारै-श्चरणयुगलान्त-र्विगलितैः
प्रपञ्चं सिन्ञ्न्ती पुनरपि रसाम्नाय-महसः।
अवाप्य स्वां भूमिं भुजगनिभ-मध्युष्ट-वलयं
स्वमात्मानं कृत्वा स्वपिषि कुलकुण्डे कुहरिणि ॥ 10 ॥

चतुर्भिः श्रीकण्ठैः शिवयुवतिभिः पञ्चभिपि
प्रभिन्नाभिः शम्भोर्नवभिरपि मूलप्रकृतिभिः ।
चतुश्चत्वारिंशद्-वसुदल-कलाश्च्-त्रिवलय-
त्रिरेखभिः सार्धं तव शरणकोणाः परिणताः ॥ 11 ॥

त्वदीयं सौन्दर्यं तुहिनगिरिकन्ये तुलयितुं
कवीन्द्राः कल्पन्ते कथमपि विरिञ्चि-प्रभृतयः ।
यदालोकौत्सुक्या-दमरललना यान्ति मनसा
तपोभिर्दुष्प्रापामपि गिरिश-सायुज्य-पदवीम् ॥ 12 ॥

नरं वर्षीयांसं नयनविरसं नर्मसु जडं
तवापाङ्गालोके पतित-मनुधावन्ति शतशः ।
गलद्वेणीबन्धाः कुचकलश-विस्त्रिस्त-सिचया
हटात् त्रुट्यत्काञ्यो विगलित-दुकूला युवतयः ॥ 13 ॥

क्षितौ षट्पञ्चाशद्-द्विसमधिक-पञ्चाश-दुदके
हुतशे द्वाषष्टि-श्चतुरधिक-पञ्चाश-दनिले ।
दिवि द्विः षट् त्रिंशन् मनसि च चतुःषष्टिरिति ये
मयूखा-स्तेषा-मप्युपरि तव पादाम्बुज-युगम् ॥ 14 ॥

शरज्ज्योत्स्ना शुद्धां शशियुत-जटाजूट-मकुटां
वर-त्रास-त्राण-स्फटिकघुटिका-पुस्तक-कराम् ।
सकृन्न त्वा नत्वा कथमिव सतां सन्निदधते
मधु-क्षीर-द्राक्षा-मधुरिम-धुरीणाः फणितयः ॥ 15 ॥

कवीन्द्राणां चेतः कमलवन-बालातप-रुचिं
भजन्ते ये सन्तः कतिचिदरुणामेव भवतीम् ।
विरिञ्चि-प्रेयस्या-स्तरुणतर-श्रृङ्गर लहरी-
गभीराभि-र्वाग्भिः र्विदधति सतां रञ्जनममी ॥ 16 ॥

सवित्रीभि-र्वाचां चशि-मणि शिला-भङ्ग रुचिभि-
र्वशिन्यद्याभि-स्त्वां सह जननि सञ्चिन्तयति यः ।
स कर्ता काव्यानां भवति महतां भङ्गिरुचिभि-
र्वचोभि-र्वाग्देवी-वदन-कमलामोद मधुरैः ॥ 17 ॥

तनुच्छायाभिस्ते तरुण-तरणि-श्रीसरणिभि-
र्दिवं सर्वा-मुर्वी-मरुणिमनि मग्नां स्मरति यः ।
भवन्त्यस्य त्रस्य-द्वनहरिण-शालीन-नयनाः
सहोर्वश्या वश्याः कति कति न गीर्वाण-गणिकाः ॥ 18 ॥

मुखं बिन्दुं कृत्वा कुचयुगमध-स्तस्य तदधो
हरार्धं ध्यायेद्यो हरमहिषि ते मन्मथकलाम् ।
स सद्यः सङ्क्षोभं नयति वनिता इत्यतिलघु
त्रिलोकीमप्याशु भ्रमयति रवीन्दु-स्तनयुगाम् ॥ 19 ॥

किरन्ती-मङ्गेभ्यः किरण-निकुरुम्बमृतरसं
हृदि त्वा माधत्ते हिमकरशिला-मूर्तिमिव यः ।
स सर्पाणां दर्पं शमयति शकुन्तधिप इव
ज्वरप्लुष्टान् दृष्ट्या सुखयति सुधाधारसिरया ॥ 20 ॥

तटिल्लेखा-तन्वीं तपन शशि वै॒श्वानर मयीं
निष्ण्णां षण्णामप्युपरि कमलानां तव कलाम् ।
महापद्मातव्यां मृदित-मलमायेन मनसा
महान्तः पश्यन्तो दधति परमाह्लाद-लहरीम् ॥ 21 ॥

भवानि त्वं दासे मयि वितर दृष्टिं सकरुणां
इति स्तोतुं वाञ्छन् कथयति भवानि त्वमिति यः ।
तदैव त्वं तस्मै दिशसि निजसायुज्य-पदवीं
मुकुन्द-ब्रम्हेन्द्र स्फुट मकुट नीराजितपदाम् ॥ 22 ॥

त्वया हृत्वा वामं वपु-रपरितृप्तेन मनसा
शरीरार्धं शम्भो-रपरमपि शङ्के हृतमभूत् ।
यदेतत् त्वद्रूपं सकलमरुणाभं त्रिनयनं
कुचाभ्यामानम्रं कुटिल-शशिचूडाल-मकुटम् ॥ 23 ॥

जगत्सूते धाता हरिरवति रुद्रः क्षपयते
तिरस्कुर्व-न्नेतत् स्वमपि वपु-रीश-स्तिरयति ।
सदा पूर्वः सर्वं तदिद मनुगृह्णाति च शिव-
स्तवाज्ञा मलम्ब्य क्षणचलितयो र्भ्रूलतिकयोः ॥ 24 ॥

त्रयाणां देवानां त्रिगुण-जनितानां तव शिवे
भवेत् पूजा पूजा तव चरणयो-र्या विरचिता ।
तथा हि त्वत्पादोद्वहन-मणिपीठस्य निकटे
स्थिता ह्येते-शश्वन्मुकुलित करोत्तंस-मकुटाः ॥ 25 ॥

विरिञ्चिः पञ्चत्वं व्रजति हरिराप्नोति विरतिं
विनाशं कीनाशो भजति धनदो याति निधनम् ।
वितन्द्री माहेन्द्री-विततिरपि संमीलित-दृशा
महासंहारे‌உस्मिन् विहरति सति त्वत्पति रसौ ॥ 26 ॥

जपो जल्पः शिल्पं सकलमपि मुद्राविरचना
गतिः प्रादक्षिण्य-क्रमण-मशनाद्या हुति-विधिः ।
प्रणामः संवेशः सुखमखिल-मात्मार्पण-दृशा
सपर्या पर्याय-स्तव भवतु यन्मे विलसितम् ॥ 27 ॥

सुधामप्यास्वाद्य प्रति-भय-जरमृत्यु-हरिणीं
विपद्यन्ते विश्वे विधि-शतमखाद्या दिविषदः ।
करालं यत् क्ष्वेलं कबलितवतः कालकलना
न शम्भोस्तन्मूलं तव जननि ताटङ्क महिमा ॥ 28 ॥

किरीटं वैरिञ्चं परिहर पुरः कैटभभिदः
कठोरे कोठीरे स्कलसि जहि जम्भारि-मकुटम् ।
प्रणम्रेष्वेतेषु प्रसभ-मुपयातस्य भवनं
भवस्यभ्युत्थाने तव परिजनोक्ति-र्विजयते ॥ 29 ॥

स्वदेहोद्भूताभि-र्घृणिभि-रणिमाद्याभि-रभितो
निषेव्ये नित्ये त्वा महमिति सदा भावयति यः ।
किमाश्चर्यं तस्य त्रिनयन-समृद्धिं तृणयतो
महासंवर्ताग्नि-र्विरचयति नीराजनविधिम् ॥ 30 ॥

चतुः-षष्टया तन्त्रैः सकल मतिसन्धाय भुवनं
स्थितस्तत्त्त-सिद्धि प्रसव परतन्त्रैः पशुपतिः ।
पुनस्त्व-न्निर्बन्धा दखिल-पुरुषार्थैक घटना-
स्वतन्त्रं ते तन्त्रं क्षितितल मवातीतर-दिदम् ॥ 31 ॥

शिवः शक्तिः कामः क्षिति-रथ रविः शीतकिरणः
स्मरो हंसः शक्र-स्तदनु च परा-मार-हरयः ।
अमी हृल्लेखाभि-स्तिसृभि-रवसानेषु घटिता
भजन्ते वर्णास्ते तव जननि नामावयवताम् ॥ 32 ॥

स्मरं योनिं लक्ष्मीं त्रितय-मिद-मादौ तव मनो
र्निधायैके नित्ये निरवधि-महाभोग-रसिकाः ।
भजन्ति त्वां चिन्तामणि-गुणनिबद्धाक्ष-वलयाः
शिवाग्नौ जुह्वन्तः सुरभिघृत-धाराहुति-शतै ॥ 33 ॥

शरीरं त्वं शम्भोः शशि-मिहिर-वक्षोरुह-युगं
तवात्मानं मन्ये भगवति नवात्मान-मनघम् ।
अतः शेषः शेषीत्यय-मुभय-साधारणतया
स्थितः सम्बन्धो वां समरस-परानन्द-परयोः ॥ 34 ॥

मनस्त्वं व्योम त्वं मरुदसि मरुत्सारथि-रसि
त्वमाप-स्त्वं भूमि-स्त्वयि परिणतायां न हि परम् ।
त्वमेव स्वात्मानं परिण्मयितुं विश्व वपुषा
चिदानन्दाकारं शिवयुवति भावेन बिभृषे ॥ 35 ॥

तवाज्ञचक्रस्थं तपन-शशि कोटि-द्युतिधरं
परं शम्भु वन्दे परिमिलित-पार्श्वं परचिता ।
यमाराध्यन् भक्त्या रवि शशि शुचीना-मविषये
निरालोके ‌உलोके निवसति हि भालोक-भुवने ॥ 36 ॥

विशुद्धौ ते शुद्धस्फतिक विशदं व्योम-जनकं
शिवं सेवे देवीमपि शिवसमान-व्यवसिताम् ।
ययोः कान्त्या यान्त्याः शशिकिरण्-सारूप्यसरणे
विधूतान्त-र्ध्वान्ता विलसति चकोरीव जगती ॥ 37 ॥

समुन्मीलत् संवित्कमल-मकरन्दैक-रसिकं
भजे हंसद्वन्द्वं किमपि महतां मानसचरम् ।
यदालापा-दष्टादश-गुणित-विद्यापरिणतिः
यदादत्ते दोषाद् गुण-मखिल-मद्भ्यः पय इव ॥ 38 ॥

तव स्वाधिष्ठाने हुतवह-मधिष्ठाय निरतं
तमीडे संवर्तं जननि महतीं तां च समयाम् ।
यदालोके लोकान् दहति महसि क्रोध-कलिते
दयार्द्रा या दृष्टिः शिशिर-मुपचारं रचयति ॥ 39 ॥

तटित्वन्तं शक्त्या तिमिर-परिपन्थि-स्फुरणया
स्फुर-न्ना नरत्नाभरण-परिणद्धेन्द्र-धनुषम् ।
तव श्यामं मेघं कमपि मणिपूरैक-शरणं
निषेवे वर्षन्तं-हरमिहिर-तप्तं त्रिभुवनम् ॥ 40 ॥

तवाधारे मूले सह समयया लास्यपरया
नवात्मान मन्ये नवरस-महाताण्डव-नटम् ।
उभाभ्या मेताभ्या-मुदय-विधि मुद्दिश्य दयया
सनाथाभ्यां जज्ञे जनक जननीमत् जगदिदम् ॥ 41 ॥

सौन्दर्य लहरी

गतै-र्माणिक्यत्वं गगनमणिभिः सान्द्रघटितं
किरीटं ते हैमं हिमगिरिसुते कीतयति यः ॥
स नीडेयच्छाया-च्छुरण-शकलं चन्द्र-शकलं
धनुः शौनासीरं किमिति न निबध्नाति धिषणाम् ॥ 42 ॥

धुनोतु ध्वान्तं न-स्तुलित-दलितेन्दीवर-वनं
घनस्निग्ध-श्लक्ष्णं चिकुर निकुरुम्बं तव शिवे ।
यदीयं सौरभ्यं सहज-मुपलब्धुं सुमनसो
वसन्त्यस्मिन् मन्ये बलमथन वाटी-विटपिनाम् ॥ 43 ॥

तनोतु क्षेमं न-स्तव वदनसौन्दर्यलहरी
परीवाहस्रोतः-सरणिरिव सीमन्तसरणिः।
वहन्ती- सिन्दूरं प्रबलकबरी-भार-तिमिर
द्विषां बृन्दै-र्वन्दीकृतमेव नवीनार्क केरणम् ॥ 44 ॥

अरालै स्वाभाव्या-दलिकलभ-सश्रीभि रलकैः
परीतं ते वक्त्रं परिहसति पङ्केरुहरुचिम् ।
दरस्मेरे यस्मिन् दशनरुचि किञ्जल्क-रुचिरे
सुगन्धौ माद्यन्ति स्मरदहन चक्षु-र्मधुलिहः ॥ 45 ॥

ललाटं लावण्य द्युति विमल-माभाति तव यत्
द्वितीयं तन्मन्ये मकुटघटितं चन्द्रशकलम् ।
विपर्यास-न्यासा दुभयमपि सम्भूय च मिथः
सुधालेपस्यूतिः परिणमति राका-हिमकरः ॥ 46 ॥

भ्रुवौ भुग्ने किञ्चिद्भुवन-भय-भङ्गव्यसनिनि
त्वदीये नेत्राभ्यां मधुकर-रुचिभ्यां धृतगुणम् ।
धनु र्मन्ये सव्येतरकर गृहीतं रतिपतेः
प्रकोष्टे मुष्टौ च स्थगयते निगूढान्तर-मुमे ॥ 47 ॥

अहः सूते सव्य तव नयन-मर्कात्मकतया
त्रियामां वामं ते सृजति रजनीनायकतया ।
तृतीया ते दृष्टि-र्दरदलित-हेमाम्बुज-रुचिः
समाधत्ते सन्ध्यां दिवसर्-निशयो-रन्तरचरीम् ॥ 48 ॥

विशाला कल्याणी स्फुतरुचि-रयोध्या कुवलयैः
कृपाधाराधारा किमपि मधुरा‌உ‌உभोगवतिका ।
अवन्ती दृष्टिस्ते बहुनगर-विस्तार-विजया
ध्रुवं तत्तन्नाम-व्यवहरण-योग्याविजयते ॥ 49 ॥

कवीनां सन्दर्भ-स्तबक-मकरन्दैक-रसिकं
कटाक्ष-व्याक्षेप-भ्रमरकलभौ कर्णयुगलम् ।
अमुञ्च्न्तौ दृष्ट्वा तव नवरसास्वाद-तरलौ
असूया-संसर्गा-दलिकनयनं किञ्चिदरुणम् ॥ 50 ॥

शिवे शङ्गारार्द्रा तदितरजने कुत्सनपरा
सरोषा गङ्गायां गिरिशचरिते विस्मयवती ।
हराहिभ्यो भीता सरसिरुह सौभाग्य-जननी
सखीषु स्मेरा ते मयि जननि दृष्टिः सकरुणा ॥ 51 ॥

गते कर्णाभ्यर्णं गरुत इव पक्ष्माणि दधती
पुरां भेत्तु-श्चित्तप्रशम-रस-विद्रावण फले ।
इमे नेत्रे गोत्राधरपति-कुलोत्तंस-कलिके
तवाकर्णाकृष्ट स्मरशर-विलासं कलयतः॥ 52 ॥

विभक्त-त्रैवर्ण्यं व्यतिकरित-लीलाञ्जनतया
विभाति त्वन्नेत्र त्रितय मिद-मीशानदयिते ।
पुनः स्रष्टुं देवान् द्रुहिण हरि-रुद्रानुपरतान्
रजः सत्वं वेभ्रत् तम इति गुणानां त्रयमिव ॥ 53 ॥

पवित्रीकर्तुं नः पशुपति-पराधीन-हृदये
दयामित्रै र्नेत्रै-ररुण-धवल-श्याम रुचिभिः ।
नदः शोणो गङ्गा तपनतनयेति ध्रुवमुम्
त्रयाणां तीर्थाना-मुपनयसि सम्भेद-मनघम् ॥ 54 ॥

निमेषोन्मेषाभ्यां प्रलयमुदयं याति जगति
तवेत्याहुः सन्तो धरणिधर-राजन्यतनये ।
त्वदुन्मेषाज्जातं जगदिद-मशेषं प्रलयतः
परेत्रातुं शंङ्के परिहृत-निमेषा-स्तव दृशः ॥ 55 ॥

तवापर्णे कर्णे जपनयन पैशुन्य चकिता
निलीयन्ते तोये नियत मनिमेषाः शफरिकाः ।
इयं च श्री-र्बद्धच्छदपुटकवाटं कुवलयं
जहाति प्रत्यूषे निशि च विघतय्य प्रविशति॥ 56 ॥

दृशा द्राघीयस्या दरदलित नीलोत्पल रुचा
दवीयांसं दीनं स्नपा कृपया मामपि शिवे ।
अनेनायं धन्यो भवति न च ते हानिरियता
वने वा हर्म्ये वा समकर निपातो हिमकरः ॥ 57 ॥

अरालं ते पालीयुगल-मगराजन्यतनये
न केषा-माधत्ते कुसुमशर कोदण्ड-कुतुकम् ।
तिरश्चीनो यत्र श्रवणपथ-मुल्ल्ङ्य्य विलसन्
अपाङ्ग व्यासङ्गो दिशति शरसन्धान धिषणाम् ॥ 58 ॥

स्फुरद्गण्डाभोग-प्रतिफलित ताट्ङ्क युगलं
चतुश्चक्रं मन्ये तव मुखमिदं मन्मथरथम् ।
यमारुह्य द्रुह्य त्यवनिरथ मर्केन्दुचरणं
महावीरो मारः प्रमथपतये सज्जितवते ॥ 59 ॥

सरस्वत्याः सूक्ती-रमृतलहरी कौशलहरीः
पिब्नत्याः शर्वाणि श्रवण-चुलुकाभ्या-मविरलम् ।
चमत्कारः-श्लाघाचलित-शिरसः कुण्डलगणो
झणत्करैस्तारैः प्रतिवचन-माचष्ट इव ते ॥ 60 ॥

असौ नासावंश-स्तुहिनगिरिवण्श-ध्वजपटि
त्वदीयो नेदीयः फलतु फल-मस्माकमुचितम् ।
वहत्यन्तर्मुक्ताः शिशिरकर-निश्वास-गलितं
समृद्ध्या यत्तासां बहिरपि च मुक्तामणिधरः ॥ 61 ॥

प्रकृत्या‌உ‌உरक्ताया-स्तव सुदति दन्दच्छदरुचेः
प्रवक्ष्ये सदृश्यं जनयतु फलं विद्रुमलता ।
न बिम्बं तद्बिम्ब-प्रतिफलन-रागा-दरुणितं
तुलामध्रारोढुं कथमिव विलज्जेत कलया ॥ 62 ॥

स्मितज्योत्स्नाजालं तव वदनचन्द्रस्य पिबतां
चकोराणा-मासी-दतिरसतया चञ्चु-जडिमा ।
अतस्ते शीतांशो-रमृतलहरी माम्लरुचयः
पिबन्ती स्वच्छन्दं निशि निशि भृशं काञ्जि कधिया ॥ 63 ॥

अविश्रान्तं पत्युर्गुणगण कथाम्रेडनजपा
जपापुष्पच्छाया तव जननि जिह्वा जयति सा ।
यदग्रासीनायाः स्फटिकदृष-दच्छच्छविमयि
सरस्वत्या मूर्तिः परिणमति माणिक्यवपुषा ॥ 64 ॥

रणे जित्वा दैत्या नपहृत-शिरस्त्रैः कवचिभिः
निवृत्तै-श्चण्डांश-त्रिपुरहर-निर्माल्य-विमुखैः ।
विशाखेन्द्रोपेन्द्रैः शशिविशद-कर्पूरशकला
विलीयन्ते मातस्तव वदनताम्बूल-कबलाः ॥ 65 ॥

विपञ्च्या गायन्ती विविध-मपदानं पशुपते-
स्त्वयारब्धे वक्तुं चलितशिरसा साधुवचने ।
तदीयै-र्माधुर्यै-रपलपित-तन्त्रीकलरवां
निजां वीणां वाणीं निचुलयति चोलेन निभृतम् ॥ 66 ॥

करग्रेण स्पृष्टं तुहिनगिरिणा वत्सलतया
गिरिशेनो-दस्तं मुहुरधरपानाकुलतया ।
करग्राह्यं शम्भोर्मुखमुकुरवृन्तं गिरिसुते
कथङ्करं ब्रूम-स्तव चुबुकमोपम्यरहितम् ॥ 67 ॥

भुजाश्लेषान्नित्यं पुरदमयितुः कन्टकवती
तव ग्रीवा धत्ते मुखकमलनाल-श्रियमियम् ।
स्वतः श्वेता काला गरु बहुल-जम्बालमलिना
मृणालीलालित्यं वहति यदधो हारलतिका ॥ 68 ॥

गले रेखास्तिस्रो गति गमक गीतैक निपुणे
विवाह-व्यानद्ध-प्रगुणगुण-सङ्ख्या प्रतिभुवः ।
विराजन्ते नानाविध-मधुर-रागाकर-भुवां
त्रयाणां ग्रामाणां स्थिति-नियम-सीमान इव ते ॥ 69 ॥

मृणाली-मृद्वीनां तव भुजलतानां चतसृणां
चतुर्भिः सौन्द्रयं सरसिजभवः स्तौति वदनैः ।
नखेभ्यः सन्त्रस्यन् प्रथम-मथना दन्तकरिपोः
चतुर्णां शीर्षाणां सम-मभयहस्तार्पण-धिया ॥ 70 ॥

नखाना-मुद्योतै-र्नवनलिनरागं विहसतां
कराणां ते कान्तिं कथय कथयामः कथमुमे ।
कयाचिद्वा साम्यं भजतु कलया हन्त कमलं
यदि क्रीडल्लक्ष्मी-चरणतल-लाक्षारस-चणम् ॥ 71 ॥

समं देवि स्कन्द द्विपिवदन पीतं स्तनयुगं
तवेदं नः खेदं हरतु सततं प्रस्नुत-मुखम् ।
यदालोक्याशङ्काकुलित हृदयो हासजनकः
स्वकुम्भौ हेरम्बः परिमृशति हस्तेन झडिति ॥ 72 ॥

अमू ते वक्षोजा-वमृतरस-माणिक्य कुतुपौ
न सन्देहस्पन्दो नगपति पताके मनसि नः ।
पिबन्तौ तौ यस्मा दविदित वधूसङ्ग रसिकौ
कुमारावद्यापि द्विरदवदन-क्रौञ्च्दलनौ ॥ 73 ॥

वहत्यम्ब स्त्म्बेरम-दनुज-कुम्भप्रकृतिभिः
समारब्धां मुक्तामणिभिरमलां हारलतिकाम् ।
कुचाभोगो बिम्बाधर-रुचिभि-रन्तः शबलितां
प्रताप-व्यामिश्रां पुरदमयितुः कीर्तिमिव ते ॥ 74 ॥

तव स्तन्यं मन्ये धरणिधरकन्ये हृदयतः
पयः पारावारः परिवहति सारस्वतमिव ।
दयावत्या दत्तं द्रविडशिशु-रास्वाद्य तव यत्
कवीनां प्रौढाना मजनि कमनीयः कवयिता ॥ 75 ॥

हरक्रोध-ज्वालावलिभि-रवलीढेन वपुषा
गभीरे ते नाभीसरसि कृतसङो मनसिजः ।
समुत्तस्थौ तस्मा-दचलतनये धूमलतिका
जनस्तां जानीते तव जननि रोमावलिरिति ॥ 76 ॥

यदेतत्कालिन्दी-तनुतर-तरङ्गाकृति शिवे
कृशे मध्ये किञ्चिज्जननि तव यद्भाति सुधियाम् ।
विमर्दा-दन्योन्यं कुचकलशयो-रन्तरगतं
तनूभूतं व्योम प्रविशदिव नाभिं कुहरिणीम् ॥ 77 ॥

स्थिरो गङ्गा वर्तः स्तनमुकुल-रोमावलि-लता
कलावालं कुण्डं कुसुमशर तेजो-हुतभुजः ।
रते-र्लीलागारं किमपि तव नाभिर्गिरिसुते
बेलद्वारं सिद्धे-र्गिरिशनयनानां विजयते ॥ 78 ॥

निसर्ग-क्षीणस्य स्तनतट-भरेण क्लमजुषो
नमन्मूर्ते र्नारीतिलक शनकै-स्त्रुट्यत इव ।
चिरं ते मध्यस्य त्रुटित तटिनी-तीर-तरुणा
समावस्था-स्थेम्नो भवतु कुशलं शैलतनये ॥ 79 ॥

कुचौ सद्यः स्विद्य-त्तटघटित-कूर्पासभिदुरौ
कषन्तौ-दौर्मूले कनककलशाभौ कलयता ।
तव त्रातुं भङ्गादलमिति वलग्नं तनुभुवा
त्रिधा नद्ध्म् देवी त्रिवलि लवलीवल्लिभिरिव ॥ 80 ॥

गुरुत्वं विस्तारं क्षितिधरपतिः पार्वति निजात्
नितम्बा-दाच्छिद्य त्वयि हरण रूपेण निदधे ।
अतस्ते विस्तीर्णो गुरुरयमशेषां वसुमतीं
नितम्ब-प्राग्भारः स्थगयति सघुत्वं नयति च ॥ 81 ॥

करीन्द्राणां शुण्डान्-कनककदली-काण्डपटलीं
उभाभ्यामूरुभ्या-मुभयमपि निर्जित्य भवति ।
सुवृत्ताभ्यां पत्युः प्रणतिकठिनाभ्यां गिरिसुते
विधिज्ञे जानुभ्यां विबुध करिकुम्भ द्वयमसि ॥ 82 ॥

पराजेतुं रुद्रं द्विगुणशरगर्भौ गिरिसुते
निषङ्गौ जङ्घे ते विषमविशिखो बाढ-मकृत ।
यदग्रे दृस्यन्ते दशशरफलाः पादयुगली
नखाग्रच्छन्मानः सुर मुकुट-शाणैक-निशिताः ॥ 83 ॥

श्रुतीनां मूर्धानो दधति तव यौ शेखरतया
ममाप्येतौ मातः शेरसि दयया देहि चरणौ ।
यय‌ओः पाद्यं पाथः पशुपति जटाजूट तटिनी
ययो-र्लाक्षा-लक्ष्मी-ररुण हरिचूडामणि रुचिः ॥ 84 ॥

नमो वाकं ब्रूमो नयन-रमणीयाय पदयोः
तवास्मै द्वन्द्वाय स्फुट-रुचि रसालक्तकवते ।
असूयत्यत्यन्तं यदभिहननाय स्पृहयते
पशूना-मीशानः प्रमदवन-कङ्केलितरवे ॥ 85 ॥

मृषा कृत्वा गोत्रस्खलन-मथ वैलक्ष्यनमितं
ललाटे भर्तारं चरणकमले ताडयति ते ।
चिरादन्तः शल्यं दहनकृत मुन्मूलितवता
तुलाकोटिक्वाणैः किलिकिलित मीशान रिपुणा ॥ 86 ॥

हिमानी हन्तव्यं हिमगिरिनिवासैक-चतुरौ
निशायां निद्राणं निशि-चरमभागे च विशदौ ।
वरं लक्ष्मीपात्रं श्रिय-मतिसृहन्तो समयिनां
सरोजं त्वत्पादौ जननि जयत-श्चित्रमिह किम् ॥ 87 ॥

पदं ते कीर्तीनां प्रपदमपदं देवि विपदां
कथं नीतं सद्भिः कठिन-कमठी-कर्पर-तुलाम् ।
कथं वा बाहुभ्या-मुपयमनकाले पुरभिदा
यदादाय न्यस्तं दृषदि दयमानेन मनसा ॥ 88 ॥

नखै-र्नाकस्त्रीणां करकमल-सङ्कोच-शशिभिः
तरूणां दिव्यानां हसत इव ते चण्डि चरणौ ।
फलानि स्वःस्थेभ्यः किसलय-कराग्रेण ददतां
दरिद्रेभ्यो भद्रां श्रियमनिश-मह्नाय ददतौ ॥ 89 ॥

ददाने दीनेभ्यः श्रियमनिश-माशानुसदृशीं
अमन्दं सौन्दर्यं प्रकर-मकरन्दं विकिरति ।
तवास्मिन् मन्दार-स्तबक-सुभगे यातु चरणे
निमज्जन् मज्जीवः करणचरणः ष्ट्चरणताम् ॥ 90 ॥

पदन्यास-क्रीडा परिचय-मिवारब्धु-मनसः
स्खलन्तस्ते खेलं भवनकलहंसा न जहति ।
अतस्तेषां शिक्षां सुभगमणि-मञ्जीर-रणित-
च्छलादाचक्षाणं चरणकमलं चारुचरिते ॥ 91 ॥

गतास्ते मञ्चत्वं द्रुहिण हरि रुद्रेश्वर भृतः
शिवः स्वच्छ-च्छाया-घटित-कपट-प्रच्छदपटः ।
त्वदीयानां भासां प्रतिफलन रागारुणतया
शरीरी शृङ्गारो रस इव दृशां दोग्धि कुतुकम् ॥ 92 ॥

अराला केशेषु प्रकृति सरला मन्दहसिते
शिरीषाभा चित्ते दृषदुपलशोभा कुचतटे ।
भृशं तन्वी मध्ये पृथु-रुरसिजारोह विषये
जगत्त्रतुं शम्भो-र्जयति करुणा काचिदरुणा ॥ 93 ॥

कलङ्कः कस्तूरी रजनिकर बिम्बं जलमयं
कलाभिः कर्पूरै-र्मरकतकरण्डं निबिडितम् ।
अतस्त्वद्भोगेन प्रतिदिनमिदं रिक्तकुहरं
विधि-र्भूयो भूयो निबिडयति नूनं तव कृते ॥ 94 ॥

पुरारन्ते-रन्तः पुरमसि तत-स्त्वचरणयोः
सपर्या-मर्यादा तरलकरणाना-मसुलभा ।
तथा ह्येते नीताः शतमखमुखाः सिद्धिमतुलां
तव द्वारोपान्तः स्थितिभि-रणिमाद्याभि-रमराः ॥ 95 ॥

कलत्रं वैधात्रं कतिकति भजन्ते न कवयः
श्रियो देव्याः को वा न भवति पतिः कैरपि धनैः ।
महादेवं हित्वा तव सति सतीना-मचरमे
कुचभ्या-मासङ्गः कुरवक-तरो-रप्यसुलभः ॥ 96 ॥

गिरामाहु-र्देवीं द्रुहिणगृहिणी-मागमविदो
हरेः पत्नीं पद्मां हरसहचरी-मद्रितनयाम् ।
तुरीया कापि त्वं दुरधिगम-निस्सीम-महिमा
महामाया विश्वं भ्रमयसि परब्रह्ममहिषि ॥ 97 ॥

कदा काले मातः कथय कलितालक्तकरसं
पिबेयं विद्यार्थी तव चरण-निर्णेजनजलम् ।
प्रकृत्या मूकानामपि च कविता0कारणतया
कदा धत्ते वाणीमुखकमल-ताम्बूल-रसताम् ॥ 98 ॥

सरस्वत्या लक्ष्म्या विधि हरि सपत्नो विहरते
रतेः पतिव्रत्यं शिथिलपति रम्येण वपुषा ।
चिरं जीवन्नेव क्षपित-पशुपाश-व्यतिकरः
परानन्दाभिख्यं रसयति रसं त्वद्भजनवान् ॥ 99 ॥

प्रदीप ज्वालाभि-र्दिवसकर-नीराजनविधिः
सुधासूते-श्चन्द्रोपल-जललवै-रघ्यरचना ।
स्वकीयैरम्भोभिः सलिल-निधि-सौहित्यकरणं
त्वदीयाभि-र्वाग्भि-स्तव जननि वाचां स्तुतिरियम् ॥ 100 ॥

सौन्दयलहरि मुख्यस्तोत्रं संवार्तदायकम् ।
भगवद्पाद सन्क्लुप्तं पठेन् मुक्तौ भवेन्नरः ॥
सौन्दर्यलहरि स्तोत्रं सम्पूर्णं