Aug 062017
 

Soundarya Lahari Sloka 4

For Removal of all fears, Curing of diseases

Yantra for Soundarya Lahari Sloka 4

Yantra for Soundarya Lahari Sloka 4

Mode of worship The Yantra to be made of gold or silver. Chant this sloka for 3000 or 1000 times everyday for 36, or 40 or 16 days. While chanting sit facing North East or East

Offering: Rice cooked with green-gram pulse, cooked rice mixed with lemon juice, bits of sugarcane and milk.

Benefits Cures ailments, makes you courageous. Makes you abundantly prosperous. Recommended for dancers and instrumentalists, as the focus is on hands and feet. Chant this sloka at least 11 times a day.

tvadanyaḥ pāṇibhayā-mabhayavarado daivatagaṇaḥ

tvamekā naivāsi prakaṭita-varabhītyabhinayā |

bhayāt trātuṃ dātuṃ phalamapi ca vāṃchāsamadhikaṃ

śaraṇye lokānāṃ tava hi caraṇāveva nipuṇau || 4 ||

त्वदन्यः पाणिभयामभयवरदो दैवतगणः

त्वमेका नैवासि प्रकटितवरभीत्यभिनया ।

भयात् त्रातुं दातुं फलमपि च वांछासमधिकं

शरण्ये लोकानां तव हि चरणावेव निपुणौ ॥ 4

த்வதன்யஃ பாணிபயாமபயவரதோ தைவதகணஃ

த்வமேகா னைவாஸி ப்ரகடிதவரபீத்யபினயா |

பயாத் த்ராதும் தாதும் பலமபி ச வாம்சாஸமதிகம்

ஶரண்யே லோகானாம் தவ ஹி சரணாவேவ னிபுணௌ || 4 ||

Aug 052017
 

Soundarya Lahari 3

For Attaining knowledge

Soundarya Lahari sloka 3 Yantra

Soundarya Lahari sloka 3 Yantra

Mode of worship: The Yantra is to be made of gold. Be seated facing North-East. And chant the sloka everyday for 45, 54 or 15 days 2000 times per day. Also do an archana with white flowers such as jasmine while chanting Lalitha Thrishathi

Archana: Chant Lalitha Trishathi offering white flowers such as jasmine, etc.

Offerings: Cooked rice, cakes of black gram, honey and betels with slices of areca nut.

Benefits: By chanting this sloka one attains knowledge. Recitation of this sloka is a helps improve ones memory and ability to comprehend things quickly. It is facilitates improved performance levels for students. Recite at least 11 times daily to bring significant improvement in the performance of a “not so bright” pupil. This is also a prayer to Varahara Avatharam of Lord Vishnu.

avidyānā-manta-stimira-mihira dvīpanagarī

jaḍānāṃ caitanya-stabaka makaranda śrutijharī |

daridrāṇāṃ cintāmaṇi guṇanikā janmajaladhau

nimagnānāṃ daṃṣṭrā muraripu varāhasya bhavati|| 3 ||

अविद्यानामन्तस्तिमिरमिहिर द्वीपनगरी

जडानां चैतन्यस्तबक मकरन्द श्रुतिझरी ।

दरिद्राणां चिन्तामणि गुणनिका जन्मजलधौ

निमग्नानां दंष्ट्रा मुररिपु वराहस्य भवति॥ 3

அவித்யானாமன்தஸ்திமிரமிஹிர த்வீபனகரீ

ஜடானாம் சைதன்யஸ்தபக மகரன்த ஶ்ருதிஜரீ |

தரித்ராணாம் சின்தாமணி குணனிகா ஜன்மஜலதௌ

னிமக்னானாம் தம்ஷ்ட்ரா முரரிபு வராஹஸ்ய பவதி|| 3 ||

Aug 042017
 

Soundarya Lahari 2

For attracting all the world

Soundarya Lahari sloka 2 Yantra

Soundarya Lahari sloka 2 Yantra

Mode of worship: The Yantra is to be made of a gold plate. Sit facing North and chant the sloka 1000 times everyday for 45 or 55 or 12 days. Chant Lalitha Trishathi offering vermillion.

Offerings: Sweet milk gruel, coconuts and fruits.

Benefits: Gaining vast influence over others and fascination of those around. Mitigates the bad influence of Rahu (unfavourable position of Rahu in the horoscope and during Rahu Maha dasa), helpful for devotees whose moon is in the constellation of Ardra, Swathi and Satabhisham. Chant for a minimum of 11 times everyday to achieve the desired result.

tanīyāṃsuṃ pāṃsuṃ tava caraṇa paṅkeruha-bhavaṃ

viriñciḥ sañcinvan viracayati lokā-navikalam |

vahatyenaṃ śauriḥ kathamapi sahasreṇa śirasāṃ

haraḥ saṅkṣud-yainaṃ bhajati bhasitoddhūḷa navidhim|| 2 ||

तनीयांसं पांसुं तव चरणपङ्केरुहभवं

विरिञ्चिस्सञ्चिन्वन् विरचयति लोकानविकलम् ।

वहत्येनं शौरिः कथमपि सहस्रेण शिरसां

हरस्संक्षुद्यैनं भजति भसितोद्धूलनविधिम् ॥ २॥

தனீயாம்ஸம் பாம்ஸும் தவ சரணபங்கேருஹப⁴வம்

விரிஞ்சிஸ்ஸஞ்சின்வன் விரசயதி லோகானவிகலம் ।

வஹத்யேனம் ஶௌரி: கத²மபி ஸஹஸ்ரேண ஶிரஸாம்

ஹரஸ்ஸங்க்ஷுத்³யைனம் ப⁴ஜதி ப⁴ஸிதோத்³தூ⁴லனவிதி⁴ம் ॥ 2


			
Aug 012017
 

Ananda Lahari Sloka 1

To attain success in all areas of life

शिवः शक्त्या युक्तो यदि भवति शक्तः प्रभवितुं

न चेदेवं देवो न खलु कुशलः स्पन्दितुमपि।

अतस्त्वाम् आराध्यां हरिहरविरिन्चादिभि रपि

प्रणन्तुं स्तोतुं वा कथमक्र्त पुण्यः प्रभवति॥ 1

ஶிவஃ ஶக்த்யா யுக்தோ யதி பவதி ஶக்தஃ ப்ரபவிதும்

ந சேதேவம் தேவோ ன கலு குஶலஃ ஸ்பன்திதுமபி|

அதஸ்த்வாம் ஆராத்யாம் ஹரிஹரவிரின்சாதிபி ரபி

ப்ரணன்தும் ஸ்தோதும் வா கதமக்ர்த புண்யஃ ப்ரபவதி|| 1 ||

Shivah shakthya yukto yadi bhavati shaktah prabhavitum

Na chedevam devo na khalu kusalah spanditumapi;

Atas tvam aradhyam Hari-Hara-Virinchadibhir api

Pranantum stotum vaa katham akrta-punyah prabhavati


How to worship: Yantra for sloka No.1 to be made on a gold plate. Sit facing East. Chant the above verse 1001 (1000) times daily, for 12 days. 
Perform archana with any red coloured flower while chanting this sloka.

Offering: Cooked rice, scrapings of coconut kernel mixed with powdered jaggery and ghee.

Benefit:- Prosperity, fulfillment of all prayers and solution to problems. Reciting the Sloka balances the feminine and masculine factor or yin and yang factor and thereby treats hormonal imbalance. Female devotees who experience disharmony in marriage will be able to get relief and if the husband is aggressive and abusive it will curb these tendencies in him. Chant this sloka at least 11 times a day to experience harmony in family, success at workplace and overall well being.

Jul 042017
 

॥ श्रीललिता त्रिशती पूर्व पीठिका ॥
अगस्त्य उवाच —
हयग्रीव दया सिन्धो भगवन् शिष्य वत्सल ।
त्वत्तः श्रुतमशेषेण श्रोतव्यं यद्यदस्तितत् ॥ १ ॥

रहस्य नाम साहस्रमपि त्वत्तः श्रुतं मय ।
इतः परं मे नास्त्येव श्रोतव्यमिति निश्चयः ॥ २ ॥

तथापि मम चित्तस्य पर्याप्तिर्नैव जायते।
कार्त्स्न्यार्थः प्राप्य इत्येव शोचयिष्याम्यहं प्रभो ॥ ३ ॥

किमिदं कारणं ब्रूहि ज्ञातव्यांशोऽस्ति वा पुनः ।
अस्ति चेन्मम तद्ब्रूहि ब्रूहीत्युक्ता प्रणम्य तम् ॥ ४ ॥

सूत उवाच –
समाललंबे तत्पाद युगळं कलशोद्भवः ।
हयाननो भीतभीतः किमिदं किमिदं त्विति ॥ ५ ॥

मुंचमुंचेति तं चोक्का चिन्ताक्रान्तो बभूव सः ।
चिरं विचार्य निश्चिन्वन् वक्तव्यं न मयेत्यसौ ॥ ६ ॥

तष्णी स्थितः स्मरन्नाज्ञां ललितांबाकृतां पुरा ।
प्रणम्य विप्रं समुनिस्तत्पादावत्यजन्स्थितः ॥ ७ ॥

वर्षत्रयावधि तथा गुरुशिष्यौ तथा स्थितौ।
तछृंवन्तश्च पश्यंतः सर्वे लोकाः सुविस्मिताः ॥ ८ ॥

तत्र श्रीललितादेवी कामेश्वरसमन्विता ।
प्रादुर्भूता हयग्रीवं रहस्येवमचोदयत् ॥ ९ ॥

श्रीदेवी उवाच –
आश्वाननावयोः प्रीतिः शास्त्रविश्वासिनि त्वयि ।
राज्यं देयं शिरो देयं न देया षोडशाक्षरी ॥ १० ॥

स्वमातृ जारवत् गोप्या विद्यैषत्यागमा जगुः ।
ततो ऽतिगोपनिया मे सर्वपूर्तिकरी स्तुतिः ॥ ११ ॥

मया कामेश्वरेणापि कृता साङ्गोपिता भृशम् ।
मदाज्ञया वचोदेव्यश्चत्ररर्नामसहस्रकम् ॥ १२ ॥

आवाभ्यां कथिता मुख्या सर्वपूर्तिकरी स्तुतिः ।
सर्वक्रियाणां वैकल्यपूर्तिर्यज्जपतो भवेत् ॥ १३ ॥

सर्व पूर्तिकरं तस्मादिदं नाम कृतं मया ।
तद्ब्रूहि त्वमगस्त्याय पात्रमेव न संशयः ॥ १४ ॥

पत्न्यस्य लोपामुद्राख्या मामुपास्तेऽतिभक्तितः ।
अयञ्च नितरां भक्तस्तस्मादस्य वदस्व तत् ॥ १५ ॥

अमुञ्चमानस्त्वद्वादौ वर्षत्रयमसौ स्थितः ।
एतज्ज्ञातुमतो भक्तया हितमेव निदर्शनम् ॥ १६ ॥

चित्तपर्याप्तिरेतस्य नान्यथा संभविष्यती ।
सर्वपूर्तिकरं तस्मादनुज्ञातो मया वद ॥ १७ ॥

सूत उवाच –
इत्युक्तान्तरधदाम्बा कामेश्वरसमन्विता ।
अथोत्थाप्य हयग्रीवः पाणिभ्यां कुम्भसम्भवम् ॥ १८ ॥

संस्थाप्य निकटेवाच उवाच भृश विस्मितः ।
हयग्रीव उवाच —
कृतार्थोऽसि कृतार्थोऽसि कृतार्थोऽसि घटोद्भव ॥ १९ ॥

त्वत्समो ललिताभक्तो नास्ति नास्ति जगत्रये ।
एनागस्त्य स्वयं देवी तववक्तव्यमन्वशात् ॥ २० ॥

सच्छिष्येन त्वया चाहं दृष्ट्वानस्मि तां शिवाम् ।
यतन्ते दर्शनार्थाय ब्रह्मविष्ण्वीशपूर्वकाः ॥ २१ ॥

अतः परं ते वक्ष्यामि सर्वपूर्तिकरं स्थवम् ।
यस्य स्मरण मात्रेण पर्याप्तिस्ते भवेद्धृदि ॥ २२ ॥

रहस्यनाम साह्स्रादपि गुह्यतमं मुने ।
आवश्यकं ततोऽप्येतल्ललितां समुपासितुम् ॥ २३ ॥

तदहं संप्रवक्ष्यामि ललिताम्बानुशासनात् ।
श्रीमत्पञ्चदशाक्षर्याः कादिवर्णान्क्रामन् मुने ॥ २४ ॥

पृथग्विंशति नामानि कथितानि घटोद्भव ।
आहत्य नाम्नां त्रिशती सर्वसंपूर्तिकारणी ॥ २५ ॥

रहस्यादिरहस्यैषा गोपनीया प्रयत्नतः ।
तां शृणुष्व महाभाग सावधानेन चेतसा ॥ २६ ॥

केवलं नामबुद्धिस्ते न कार्य तेषु कुम्भज।
मन्त्रात्मकं एतेषां नाम्नां नामात्मतापि च ॥ २७ ॥

तस्मादेकाग्रमनसा श्रोतव्यं च त्वया सदा ।
सूत उवाच –
इति युक्ता तं हयग्रीवः प्रोचे नामशतत्रयम् ॥ २८ ॥

॥ इति श्रीललिता त्रिशती स्तोत्र पूर्व पीठिका सम्पूर्णम् ।

॥ न्यासम् ॥
अस्य श्रीललितात्रिशती स्तोत्र महामन्त्रस्य । भगवान् हयग्रीव ऋषिः । अनुष्टप् छन्दः ।
श्रीललितामहात्रिपुरसुन्दरी देवता । ऐं बीजम् । सौः शक्तिः । क्लों कीलकम् । मम
चतुर्विधफलपुरुषार्थ जपे (वा) परायणे विनियोगः॥

ऐं अड्गुष्ठाभ्यां नमः। क्लीं तर्जनीभ्यां नमः । सौः मध्यमाभ्यां नमऽ ऐं अनामिकाभ्यां नमः ।
क्लों कनिष्ठिकाभ्यां नमः । सौः करतलकरपृष्ठाभ्यां नमः ॥

ऐं हृदयाय नमः । क्लों शिरसे स्वाहा । सौः शिखायै वषट । ऐं कवचाय हुं ।
क्लों नेत्रत्रयाय । सौः अस्वाय फट् । भूर्भुवस्सुवर्मिति दिग्बन्धः ॥

॥ ध्यानम्॥
अतिमधुरचापहस्ताम्परिमितामोदसौभाग्याम् ।
अरुणामतिशयकरुणामभिनवकुलसुन्दरीं वन्दे ॥

॥ लं इत्यादि पञ्च पूजा ॥
लं पृथिव्यात्मिकायै श्रीललिताम्बिकायै गन्धं समर्पयामि ।
हं आकाशात्मिकायै श्रीललिताम्बिकायै पुष्यैः पूजयामि ।
यं वाय्वात्मिकायै श्रीललिताम्बिकायै ।
रं वह्यात्मिकायै श्रीललिताम्बिकायै दीपं दर्शयामि ।
वं अमृतात्मिकायै श्रीललिताम्बिकायै अमृतं महानैवेद्यं निवेदयामि ।
सं सर्वात्मिकायै श्रीललिताम्बिकायै सर्वोपचारपूजां समर्पयामि ॥
॥ अथ श्रीललितात्रिशती स्तोत्रम् ॥
ककाररूपा कल्याणी कल्याणगुणशालिनी ।
कल्याणशैलनिलया कमनीया कलावती ॥ १॥

कमलाक्षी कल्मषघ्नी करुणामृत सागरा ।
कदम्बकाननावासा कदम्ब कुसुमप्रिया ॥ २॥

कन्दर्पविद्या कन्दर्प जनकापाङ्ग वीक्षणा ।
कर्पूरवीटी सौरभ्य कल्लोलित ककुप्तटा ॥ ३॥

कलिदोषहरा कंजलोचना कम्रविग्रहा ।
कर्मादि साक्षिणी कारयित्री कर्मफलप्रदा ॥ ४॥

एकाररूपा चैकाक्षर्येकानेकाक्षराकृतिः ।
एतत्तदित्यनिर्देश्या चैकानन्द चिदाकृतिः ॥ ५॥

एवमित्यागमाबोध्या चैकभक्ति मदर्चिता ।
एकाग्रचित्त निर्ध्याता चैषणा रहिताद्दृता ॥ ६॥

एलासुगंधिचिकुरा चैनः कूट विनाशिनी ।
एकभोगा चैकरसा चैकैश्वर्य प्रदायिनी ॥ ७॥

एकातपत्र साम्राज्य प्रदा चैकान्तपूजिता ।
एधमानप्रभा चैजदनेकजगदीश्वरी ॥ ८॥

एकवीरादि संसेव्या चैकप्राभव शालिनी ।
ईकाररूपा चेशित्री चेप्सितार्थ प्रदायिनी ॥ ९॥

ईद्दृगित्य विनिर्देश्या चेश्वरत्व विधायिनी ।
ईशानादि ब्रह्ममयी चेशित्वाद्यष्ट सिद्धिदा ॥ १०॥

ईक्षित्रीक्षण सृष्टाण्ड कोटिरीश्वर वल्लभा ।
ईडिता चेश्वरार्धाङ्ग शरीरेशाधि देवता ॥ ११॥

ईश्वर प्रेरणकरी चेशताण्डव साक्षिणी ।
ईश्वरोत्सङ्ग निलया चेतिबाधा विनाशिनी ॥ १२॥

ईहाविराहिता चेश शक्ति रीषत् स्मितानना ।
लकाररूपा ललिता लक्ष्मी वाणी निषेविता ॥ १३॥

लाकिनी ललनारूपा लसद्दाडिम पाटला ।
ललन्तिकालसत्फाला ललाट नयनार्चिता ॥ १४॥

लक्षणोज्ज्वल दिव्याङ्गी लक्षकोट्यण्ड नायिका ।
लक्ष्यार्था लक्षणागम्या लब्धकामा लतातनुः ॥ १५॥

ललामराजदलिका लम्बिमुक्तालताञ्चिता ।
लम्बोदर प्रसूर्लभ्या लज्जाढ्या लयवर्जिता ॥ १६॥

ह्रींकार रूपा ह्रींकार निलया ह्रींपदप्रिया ।
ह्रींकार बीजा ह्रींकारमन्त्रा ह्रींकारलक्षणा ॥ १७॥

ह्रींकारजप सुप्रीता ह्रींमती ह्रींविभूषणा ।
ह्रींशीला ह्रींपदाराध्या ह्रींगर्भा ह्रींपदाभिधा ॥ १८॥

ह्रींकारवाच्या ह्रींकार पूज्या ह्रींकार पीठिका ।
ह्रींकारवेद्या ह्रींकारचिन्त्या ह्रीं ह्रींशरीरिणी ॥ १९॥

हकाररूपा हलधृत्पूजिता हरिणेक्षणा ।
हरप्रिया हराराध्या हरिब्रह्मेन्द्र वन्दिता ॥ २०॥

हयारूढा सेवितांघ्रिर्हयमेध समर्चिता ।
हर्यक्षवाहना हंसवाहना हतदानवा ॥ २१॥

हत्यादिपापशमनी हरिदश्वादि सेविता ।
हस्तिकुम्भोत्तुङ्क कुचा हस्तिकृत्ति प्रियांगना ॥ २२॥

हरिद्राकुंकुमा दिग्धा हर्यश्वाद्यमरार्चिता ।
हरिकेशसखी हादिविद्या हालामदोल्लसा ॥ २३॥

सकाररूपा सर्वज्ञा सर्वेशी सर्वमङ्गला ।
सर्वकर्त्री सर्वभर्त्री सर्वहन्त्री सनातना ॥ २४॥

सर्वानवद्या सर्वाङ्ग सुन्दरी सर्वसाक्षिणी ।
सर्वात्मिका सर्वसौख्य दात्री सर्वविमोहिनी ॥ २५॥

सर्वाधारा सर्वगता सर्वावगुणवर्जिता ।
सर्वारुणा सर्वमाता सर्वभूषण भूषिता ॥ २६॥

ककारार्था कालहन्त्री कामेशी कामितार्थदा ।
कामसंजीविनी कल्या कठिनस्तन मण्डला ॥ २७॥

करभोरुः कलानाथ मुखी कचजिताम्भुदा ।
कटाक्षस्यन्दि करुणा कपालि प्राण नायिका ॥ २८॥

कारुण्य विग्रहा कान्ता कान्तिधूत जपावलिः ।
कलालापा कंबुकण्ठी करनिर्जित पल्लवा ॥ २९॥

कल्पवल्ली समभुजा कस्तूरी तिलकाञ्चिता ।
हकारार्था हंसगतिर्हाटकाभरणोज्ज्वला ॥ ३०॥

हारहारि कुचाभोगा हाकिनी हल्यवर्जिता ।
हरित्पति समाराध्या हठात्कार हतासुरा ॥ ३१॥

हर्षप्रदा हविर्भोक्त्री हार्द सन्तमसापहा ।
हल्लीसलास्य सन्तुष्टा हंसमन्त्रार्थ रूपिणी ॥ ३२॥

हानोपादान निर्मुक्ता हर्षिणी हरिसोदरी ।
हाहाहूहू मुख स्तुत्या हानि वृद्धि विवर्जिता ॥ ३३॥

हय्यङ्गवीन हृदया हरिकोपारुणांशुका ।
लकाराख्या लतापूज्या लयस्थित्युद्भवेश्वरी ॥ ३४॥

लास्य दर्शन सन्तुष्टा लाभालाभ विवर्जिता ।
लङ्घ्येतराज्ञा लावण्य शालिनी लघु सिद्धिदा ॥ ३५॥

लाक्षारस सवर्णाभा लक्ष्मणाग्रज पूजिता ।
लभ्यतरा लब्ध भक्ति सुलभा लाङ्गलायुधा ॥ ३६॥

लग्नचामर हस्त श्रीशारदा परिवीजिता ।
लज्जापद समाराध्या लंपटा लकुलेश्वरी ॥ ३७॥

लब्धमाना लब्धरसा लब्ध सम्पत्समुन्नतिः ।
ह्रींकारिणी च ह्रींकारी ह्रींमध्या ह्रींशिखामणिः ॥ ३८॥

ह्रींकारकुण्डाग्नि शिखा ह्रींकार शशिचन्द्रिका ।
ह्रींकार भास्कररुचिर्ह्रींकारांभोद चञ्चला ॥ ३९॥

ह्रींकार कन्दाङ्कुरिका ह्रींकारैक परायणाम् ।
ह्रींकार दीर्घिकाहंसी ह्रींकारोद्यान केकिनी ॥ ४०॥

ह्रींकारारण्य हरिणी ह्रींकारावाल वल्लरी ।
ह्रींकार पञ्जरशुकी ह्रींकाराङ्गण दीपिका ॥ ४१॥

ह्रींकार कन्दरा सिंही ह्रींकाराम्भोज भृङ्गिका ।
ह्रींकार सुमनो माध्वी ह्रींकार तरुमंजरी ॥ ४२॥

सकाराख्या समरसा सकलागम संस्तुता ।
सर्ववेदान्त तात्पर्यभूमिः सदसदाश्रया ॥ ४३॥

सकला सच्चिदानन्दा साध्या सद्गतिदायिनी ।
सनकादिमुनिध्येया सदाशिव कुटुम्बिनी ॥ ४४॥

सकालाधिष्ठान रूपा सत्यरूपा समाकृतिः ।
सर्वप्रपञ्च निर्मात्री समनाधिक वर्जिता ॥ ४५॥

सर्वोत्तुङ्गा संगहीना सगुणा सकलेश्वरी । सकलेष्टदा
ककारिणी काव्यलोला कामेश्वर मनोहरा ॥ ४६॥

कामेश्वरप्रणानाडी कामेशोत्सङ्ग वासिनी ।
कामेश्वरालिंगितांगी कमेश्वर सुखप्रदा ॥ ४७॥

कामेश्वर प्रणयिनी कामेश्वर विलासिनी ।
कामेश्वर तपः सिद्धिः कामेश्वर मनः प्रिया ॥ ४८॥

कामेश्वर प्राणनाथा कामेश्वर विमोहिनी ।
कामेश्वर ब्रह्मविद्या कामेश्वर गृहेश्वरी ॥ ४९॥

कामेश्वराह्लादकरी कामेश्वर महेश्वरी ।
कामेश्वरी कामकोटि निलया काङ्क्षितार्थदा ॥ ५०॥

लकारिणी लब्धरूपा लब्धधीर्लब्ध वाञ्चिता ।
लब्धपाप मनोदूरा लब्धाहंकार दुर्गमा ॥ ५१॥

लब्धशक्तिर्लब्ध देहा लब्धैश्वर्य समुन्नतिः ।
लब्धवृद्धिर्लब्धलीला लब्धयौवन शालिनी ॥ ५२॥ लब्धबुधिः

लब्धातिशय सर्वाङ्ग सौन्दर्या लब्ध विभ्रमा ।
लब्धरागा लब्धपतिर्लब्ध नानागमस्थितिः ॥ ५३॥ लब्धगति

लब्ध भोगा लब्ध सुखा लब्ध हर्षाभि पूजिता ।
ह्रींकार मूर्तिर्ह्रीण्कार सौधशृंग कपोतिका ॥ ५४॥

ह्रींकार दुग्धाब्धि सुधा ह्रींकार कमलेन्दिरा ।
ह्रींकारमणि दीपार्चिर्ह्रींकार तरुशारिका ॥ ५५॥

ह्रींकार पेटक मणिर्ह्रींकारदर्श बिम्बिता ।
ह्रींकार कोशासिलता ह्रींकारास्थान नर्तकी ॥ ५६॥

ह्रींकार शुक्तिका मुक्तामणिर्ह्रींकार बोधिता ।
ह्रींकारमय सौवर्णस्तम्भ विद्रुम पुत्रिका ॥ ५७॥

ह्रींकार वेदोपनिषद् ह्रींकाराध्वर दक्षिणा ।
ह्रींकार नन्दनाराम नवकल्पक वल्लरी ॥ ५८॥

ह्रींकार हिमवद्गङ्गा ह्रींकारार्णव कौस्तुभा ।
ह्रींकार मन्त्र सर्वस्वा ह्रींकारपर सौख्यदा ॥ ५९॥

॥ इति श्रीललितात्रिशतीस्तोत्रं सम्पूर्णम् ॥

॥ श्रीललिता त्रिशती उत्तर पीठिका ॥

हयग्रीव उवाच –

इत्येवं ते मयाख्यातं देव्या नामशतत्रयम् ।
रहस्यातिरहस्यत्वाद्गोपनीयं त्वया मुने ॥ १ ॥

शिववर्णानि नामानि श्रीदेव्या कथितानि हि ।
शक्तयक्षराणि नामानि कामेशकथितानि च ॥ २ ॥

उभयाक्षरनामानि ह्युभाभ्यां कथितानि वै ।
तदन्यैर्ग्रथितं स्तोत्रमेतस्य सदृशं किमु ॥ ३ ॥

नानेन सदृशं स्तोत्रं श्रीदेवी प्रीतिदायकम् ।
लोकत्रयेऽपि कल्याणं सम्भवेन्नात्र संशयः॥ ४ ॥

सूत उवाच –

इति हयमुखगीतं स्तोत्रराजं निशम्य
प्रगलित कलुषोऽभृच्चित्तपर्याप्तिमेत्य ।

निजगुरुमथ नत्वा कुम्भजन्मा तदुक्तं
पुनरधिकरहस्यं ज्ञातुमेवं जगाद ॥ ५ ॥

अगस्त्य उवाच —
अश्वानन महाभाग रहस्यमपि मे वद ।
शिववर्णानि कान्यत्र शक्तिवर्णानि कानि हि ॥ ६ ॥

उभयोरपि वर्णानि कानि वा वद देशिक।
इति पृष्टः कुम्भजेन हयग्रीवोऽवदत्युनः ॥ ७ ॥

हयग्रीव उवाच –

तव गोप्यं किमस्तीह साक्षादम्बानुशासनात् ।
इदं त्वतिरहस्यं ते वक्ष्यामि कुम्भज ॥ ८॥

एतद्विज्ञनमात्रेण श्रिविद्या सिद्धिदा भवेत् ।
कत्रयं हद्बयं चैव शैवो भागः प्रकीर्तितः ॥ ९ ॥

शक्तयक्षराणि शेषाणिह्रीङ्कार उभयात्मकः ।
एवं विभागमज्ञात्वा ये विद्याजपशालिनः ॥ १० ॥

न तेशां सिद्धिदा विद्या कल्पकोटिशतैरपि ।
चतुर्भिः शिवचक्रैश्च शक्तिचक्रैश्च पञ्चभिः ॥ ११ ॥

नव चक्रैश्ल संसिद्धं श्रीचक्रं शिवयोर्वपुः ।
त्रिकोणमष्टकोनं च दशकोणद्बयं तथा ॥ १२ ॥

चतुर्दशारं चैतानि शक्तिचक्राणि पञ्च च ।
बिन्दुश्चाष्टदलं पद्मं पद्मं षोडशपत्रकम् ॥ १३ ॥

चतुरश्रं च चत्वारि शिवचक्राण्यनुक्रमात् ।
त्रिकोणे बैन्दवं श्लिष्टं अष्टारेष्टदलाम्बुजम् ॥ १४ ॥

दशारयोः षोडशारं भूगृहं भुवनाश्रके ।
शैवानामपि शाक्तानां चक्राणां च परस्परं ॥ १५ ॥

अविनाभावसम्बन्धं यो जानाति स चक्रवित् ।
त्रिकोणरूपिणि शक्तिर्बिन्दुरूपपरः शिवः ॥ १६ ॥

अविनाभावसम्बन्धं तस्माद्विन्दुत्रिकोणयोः ।
एवं विभागमज्ञात्वा श्रीचक्रं यः समर्चयेत् ॥ १७ ॥

न तत्फलमवाप्नोति ललिताम्बा न तुष्यति ।
ये च जानन्ति लोकेऽस्मिन्श्रीविद्याचक्रवेदिनः ॥ १८ ॥

सामन्यवेदिनः सर्वे विशेषज्ञोऽतिदुर्लभः ।
स्वयं विद्या विशेषज्ञो विशेषज्ञ समर्चयेत् ॥ १९ ॥

तस्मैः देयं ततो ग्राह्यमशक्तस्तव्यदापयेत्।
अन्धम्तमः प्रविशन्ति ये ऽविद्यां समुपासते ॥ २० ॥

इति श्रुतिरपाहैतानविद्योपासकान्पुनः ।
विद्यान्योपासकानेव निन्दत्यारुणिकी श्रुतिः ॥ २१ ॥

अश्रुता सश्रुतासश्व यज्चानों येऽप्ययञ्जनः ।
सवर्यन्तो नापेक्षन्ते इन्द्रमग्निश्च ये विदुः ॥ २२ ॥

सिकता इव संयन्ति रश्मिभिः समुदीरिताः ।
अस्माल्लोकादमुष्माच्चेत्याह चारण्यक श्रुतिः ॥ २३ ॥

यस्य नो पश्चिमं जन्म यदि वा शङ्करः स्वयम्।
तेनैव लभ्यते विद्या श्रीमत्पच्चदशाक्षरी ॥ २४ ॥

इति मन्त्रेषु बहुधा विद्याया महिमोच्यते ।
मोक्षैकहेतुविद्या तु श्रीविद्या नात्र संशयः ॥ २५ ॥

न शिल्पदि ज्ञानयुक्ते विद्वच्छव्धः प्रयुज्यते ।
मोक्षैकहेतुविद्या सा श्रीविद्यैव न संशयः ॥ २६ ॥

तस्माद्विद्याविदेवात्र विद्वान्विद्वानितीर्यते ।
स्वयं विद्याविदे दद्यात्ख्यापयेत्तद्गुणान्सुधीः ॥ २७ ॥

स्वयंविद्यारहस्यज्ञो विद्यामाहात्म्यमवेद्यपि
विद्याविदं नार्चयेच्चेत्को वा तं पूजयेज्जनः ॥ २८ ॥

प्रसङ्गादिदमुक्तं ते प्रकृतं शृणु कुम्भज ।
यः कीर्तयेत्सकृत्भक्तया दिव्यनामशतत्रयम् ॥ २९ ॥

तस्य पुण्यमहं वक्ष्ये द्वं कुम्भसंभव ।
रहस्यनामसाहस्रपाठे यत्फलमीरितम् ॥ ३०॥

तत्फलं कोटिगुणितमेकनामजपाद्भवेत् ।
कामेश्वरीकामेशाभ्यां कृतं नामशतत्रयम् ॥ ३१ ॥

नान्येन तुलयेदेतत्स्तोत्रेणान्य कृतेन च ।
श्रियः परम्परा यस्य भावि वा चोत्तरोत्तरम् ॥ ३२ ॥

तेनैव लभ्यते चैतत्पश्चाच्छेयः परीक्षयेत् ।
अस्या नाम्नां त्रिशत्यास्तु महिमा केन वर्णयते ॥ ३३ ॥

या स्वयं शिवयोर्वक्तपद्माभ्यां परिनिःसृता ।
नित्यं षोडशसंख्याकान्विप्रानादौ तु भोजयेत् ॥ ३४ ॥

अभ्यक्ताम्सितिलतैलेन स्नातानुष्णेन वारिणा ।
अभ्यर्च गन्धपुष्पाद्यैः कामेश्वर्यादिनामभिः ॥ ३५ ॥

सूपापूपैः शर्कराद्मैः पायसैः फलसंयुतैः ।
विद्याविदो विशेषेण भोजयेत्पोडश द्विजान् ॥ ३६ ॥

एवं नित्यार्चनं कुर्यातादौ ब्राह्मण भोजनम् ।
त्रिशतीनामभिः पश्चाद्वाह्मणान्क्रमशोऽर्चयेत् ॥ ३७ ॥

तैलाभ्यङ्गातिकं दत्वा विभवे सति भक्तितः ।
शुक्लप्रतिपदारभ्य पौर्णमास्यवधि क्रमात् ॥ ३८ ॥

दिवसे दिवसे विप्रा भोज्या विम्शतीसङ्ख्यया ।
दशभिः पञ्चभिर्वापि त्रीभिरेकनवा दिनैः ॥ ३९ ॥

त्रिम्शत्पष्टिः शतं विप्राः सम्भोज्यस्तिशतं क्रमात् ।
एवं यः कुरुते भक्तया जन्ममध्ये सकृन्नरः ॥ ४० ॥

तस्यैव सफलं जन्म मुक्तिस्तस्य करे स्थिराः ।
रहस्यनाम साहस्त्र भोजनेऽप्येव्मेवहि ॥ ४१ ॥

आदौ नित्यबलिं कुर्यात्पश्चाद्वाह्मणभोजनम् ।
रहस्यनामसाहस्रमहिमा यो मयोदितः ॥ ४२ ॥

सशिकराणुरत्रैकनामप्नो महिमवारिधेः ।
वाग्देवीरचिते नामसाहस्ने यद्यदीरितम् ॥ ४३ ॥

तत्फलं कोटिगुणितं नाम्नोऽप्येकस्य कीर्तनात् ।
एतन्यैर्जपैः स्तोत्रैरर्चनैर्यत्फलं भवेत् ॥ ४४ ॥

तत्फलं कोटिगुणितं भवेन्नामशतत्रयात् ।
वाग्देविरचितास्तोत्रे तादृशो महिमा यदि ॥ ४५ ॥

साक्षात्कामेशकामेशी कृते ऽस्मिन्गृहृतामिति ।
सकृत्सन्कीर्तनादेव नाम्नाम्नस्मिव्शतत्रये ॥ ४६ ॥

भवेच्चित्तस्य पर्यप्तिर्न्यूनमन्यानपेक्षिणी ।
न ज्ञातव्यमितोऽप्यन्यत्र जप्तव्यश्च कुम्भज ॥ ४७ ॥

यद्यत्साध्यतमं कार्य तत्तदर्थमिदञ्जपेत् ।
तत्तत्फलमवाप्नोति पश्चात्कार्य परीक्षयेत् ॥ ४८ ॥

ये ये प्रयोगास्तन्त्रेषु तैस्तैर्यत्साध्यते फलं ।
तत्सर्व सिद्धयति क्षिप्रं नामत्रिशतकीर्तनात् ॥ ४९॥

आयुष्करं पुष्टिकरं पुत्रदं वश्यकारकम् ।
विद्याप्रदं कीर्तिकरं सुखवित्वप्रदायकम् ॥ ५० ॥

सर्वसम्पत्प्रदं सर्वभोगदं सर्वसौख्यदम् ।
सर्वाभिष्टप्रदं चैव देव्या नामशतत्रयम् ॥ ५१ ॥

एतज्जपपरो भूयान्नान्यदिच्छेत्कदाचन ।
एतत्कीर्तनसन्तुष्टा श्रीदेवी ललिताम्बिका ॥ ५२ ॥

भक्तस्य यद्यदिष्टं स्यात्तत्तत्यूरयते ध्रुवं ।
तस्मात्कुभोद्भवमुने कीर्तय त्वमिदम् सदा ॥ ५३ ॥

नापरं किञ्चिदपि ते बोद्धव्यं नावशिष्यते ।
इति ते कथितं स्तोत्र ललिता प्रीतिदायकम् ॥ ५४ ॥

नाविद्यावेदिने ब्रूयान्नाभक्ताय कदाचन ।
न शठाय न दुष्टाय नाविश्वासाय कहिर्चित्॥ ५६ ॥

यो ब्रूयात्रिशतीं नाम्नां तस्यानर्थो महान्भवेत् ।
इत्याज्ञा शाङ्करी प्रोक्ता तस्माद्गोप्यमिदं त्वया ॥ ५७ ॥

ललिता प्रेरितेनैव मयोक्तम् स्तोत्रमुत्तमम् ।
रहस्यनामसाहस्रादपि गोप्यमिदं मुने ॥ ५८ ॥

सूत उवाच –
एवमुक्त्वा हयग्रीवः कुम्भजं तापसोत्तमम् ।
स्तोत्रेणानेन ललितां स्तुत्वा त्रिपुरसुन्दरी ॥

आनन्दलहरीमग्नरमानसः समवर्तत ॥ ५९ ।

॥ इति श्री ब्रह्माण्डपुराणे उत्तराखण्डे
श्री हयग्रीवागस्त्यसंवादे
श्रीललितात्रिशती स्तोत्र कथनं सम्पूर्णम् ॥

Jul 042017
 

Lalita Trishatee stotram is a dialogue between Lord Hayagreeva and Agastya in the brahmandapurana. It holds one of the keys to the highly guarded Shodasakshari mantra of Devi, with which the coveted Shree Chakra is worshiped.

After Hayagreeva taught Sage Agastya the Lalita Sahasranama stotra, Agastya pleaded with Hayagrreva to disclose to him the secret of Shree Chakra worship. Hayagreeva is initially reluctant and stubborn. He however teaches Agastya the Lalitha Trishatee Stotram because DeVi herself appears before Hayagreeva and tells that Sage Agastya and his wife are worthy of learning the stotram and should be taught the same.

லலிதாத்ரிஶதீஸ்தோத்ரம்
॥ ஶ்ரீலலிதா த்ரிஶதீ பூர்வ பீடி²கா ॥
அக³ஸ்த்ய உவாச
ஹயக்³ரீவ த³யா ஸிந்தோ⁴ ப⁴க³வன் ஶிஷ்ய வத்ஸல ।
த்வத்த: ஶ்ருதமஶேஷேண ஶ்ரோதவ்யம் யத்³யத³ஸ்திதத் ॥ 1

ரஹஸ்ய நாம ஸாஹஸ்ரமபி த்வத்த: ஶ்ருதம் மய ।
இத: பரம் மே நாஸ்த்யேவ ஶ்ரோதவ்யமிதி நிஶ்சய: ॥ 2 ॥

ததா²பி மம சித்தஸ்ய பர்யாப்திர்னைவ ஜாயதே।
கார்த்ஸ்ன்யார்த:² ப்ராப்ய இத்யேவ ஶோசயிஷ்யாம்யஹம் ப்ரபோ⁴ ॥ 3 ॥

கிமித³ம் காரணம் ப்³ரூஹி ஜ்ஞாதவ்யாம்ஶோऽஸ்தி வா புன: ।
அஸ்தி சேன்மம தத்³ப்³ரூஹி ப்³ரூஹீத்யுக்தா ப்ரணம்ய தம் ॥ 4 ॥

ஸூத உவாச –
ஸமாலலம்பே³ தத்பாத³ யுக³ளம் கலஶோத்³ப⁴வ: ।
ஹயானனோ பீ⁴தபீ⁴த: கிமித³ம் கிமித³ம் த்விதி ॥ 5 ॥

முஞ்சமுஞ்சேதி தம் சோக்கா சிந்தாக்ராந்தோ ப³பூ⁴வ ஸ: ।
சிரம் விசார்ய நிஶ்சின்வன் வக்தவ்யம் ந மயேத்யஸௌ ॥ 6 ॥

தஷ்ணீ ஸ்தி²த: ஸ்மரன்னாஜ்ஞாம் லலிதாம்பா³க்ருʼதாம் புரா ।
ப்ரணம்ய விப்ரம் ஸமுனிஸ்தத்பாதா³வத்யஜன்ஸ்தி²த: ॥ 7 ॥

வர்ஷத்ரயாவதி⁴ ததா² கு³ருஶிஷ்யௌ ததா² ஸ்தி²தௌ।
தச்²ருʼம்வந்தஶ்ச பஶ்யந்த: ஸர்வே லோகா: ஸுவிஸ்மிதா: ॥ 8 ॥

தத்ர ஶ்ரீலலிதாதே³வீ காமேஶ்வரஸமன்விதா ।
ப்ராது³ர்பூ⁴தா ஹயக்³ரீவம் ரஹஸ்யேவமசோத³யத் ॥ 9 ॥

ஶ்ரீதே³வீ உவாச –
ஆஶ்வானனாவயோ: ப்ரீதி: ஶாஸ்த்ரவிஶ்வாஸினி த்வயி ।
ராஜ்யம் தே³யம் ஶிரோ தே³யம் ந தே³யா ஷோட³ஶாக்ஷரீ ॥ 10 ॥

ஸ்வமாத்ருʼ ஜாரவத் கோ³ப்யா வித்³யைஷத்யாக³மா ஜகு:³ ।
ததோ ऽதிகோ³பனியா மே ஸர்வபூர்திகரீ ஸ்துதி: ॥ 11 ॥

மயா காமேஶ்வரேணாபி க்ருʼதா ஸாங்கோ³பிதா ப்⁴ருʼஶம் ।
மதா³ஜ்ஞயா வசோதே³வ்யஶ்சத்ரரர்நாமஸஹஸ்ரகம் ॥ 12 ॥

ஆவாப்⁴யாம் கதி²தா முக்²யா ஸர்வபூர்திகரீ ஸ்துதி: ।
ஸர்வக்ரியாணாம் வைகல்யபூர்திர்யஜ்ஜபதோ ப⁴வேத் ॥ 13 ॥

ஸர்வ பூர்திகரம் தஸ்மாதி³த³ம் நாம க்ருʼதம் மயா ।
தத்³ப்³ரூஹி த்வமக³ஸ்த்யாய பாத்ரமேவ ந ஸம்ஶய: ॥ 14 ॥

பத்ன்யஸ்ய லோபாமுத்³ராக்²யா மாமுபாஸ்தேऽதிப⁴க்தித: ।
அயஞ்ச நிதராம் ப⁴க்தஸ்தஸ்மாத³ஸ்ய வத³ஸ்வ தத் ॥ 15 ॥

அமுஞ்சமானஸ்த்வத்³வாதௌ³ வர்ஷத்ரயமஸௌ ஸ்தி²த: ।
ஏதஜ்ஜ்ஞாதுமதோ ப⁴க்தயா ஹிதமேவ நித³ர்ஶனம் ॥ 16 ॥

சித்தபர்யாப்திரேதஸ்ய நான்யதா² ஸம்ப⁴விஷ்யதீ ।
ஸர்வபூர்திகரம் தஸ்மாத³னுஜ்ஞாதோ மயா வத³ ॥ 17 ॥

ஸூத உவாச –
இத்யுக்தாந்தரத⁴தா³ம்பா³ காமேஶ்வரஸமன்விதா ।
அதோ²த்தா²ப்ய ஹயக்³ரீவ: பாணிப்⁴யாம் கும்ப⁴ஸம்ப⁴வம் ॥ 18 ॥

ஸம்ஸ்தா²ப்ய நிகடேவாச உவாச ப்⁴ருʼஶ விஸ்மித: ।
ஹயக்³ரீவ உவாச —
க்ருʼதார்தோ²ऽஸி க்ருʼதார்தோ²ऽஸி க்ருʼதார்தோ²ऽஸி க⁴டோத்³ப⁴வ ॥ 19 ॥

த்வத்ஸமோ லலிதாப⁴க்தோ நாஸ்தி நாஸ்தி ஜக³த்ரயே ।
ஏனாக³ஸ்த்ய ஸ்வயம் தே³வீ தவவக்தவ்யமன்வஶாத் ॥ 20 ॥

ஸச்சி²ஷ்யேன த்வயா சாஹம் த்³ருʼஷ்ட்வானஸ்மி தாம் ஶிவாம் ।
யதந்தே த³ர்ஶனார்தா²ய ப்³ரஹ்மவிஷ்ண்வீஶபூர்வகா: ॥ 21 ॥

அத: பரம் தே வக்ஷ்யாமி ஸர்வபூர்திகரம் ஸ்த²வம் ।
யஸ்ய ஸ்மரண மாத்ரேண பர்யாப்திஸ்தே ப⁴வேத்³த்⁴ருʼதி³ ॥ 22 ॥

ரஹஸ்யநாம ஸாஹ்ஸ்ராத³பி கு³ஹ்யதமம் முனே ।
ஆவஶ்யகம் ததோऽப்யேதல்லலிதாம் ஸமுபாஸிதும் ॥ 23 ॥

தத³ஹம் ஸம்ப்ரவக்ஷ்யாமி லலிதாம்பா³னுஶாஸனாத் ।
ஶ்ரீமத்பஞ்சத³ஶாக்ஷர்யா: காதி³வர்ணான்க்ராமன் முனே ॥ 24 ॥

ப்ருʼத²க்³விம்ஶதி நாமானி கதி²தானி க⁴டோத்³ப⁴வ ।
ஆஹத்ய நாம்நாம் த்ரிஶதீ ஸர்வஸம்பூர்திகாரணீ ॥ 25 ॥

ரஹஸ்யாதி³ரஹஸ்யைஷா கோ³பனீயா ப்ரயத்னத: ।
தாம் ஶ்ருʼணுஷ்வ மஹாபா⁴க³ ஸாவதா⁴னேன சேதஸா ॥ 26 ॥

கேவலம் நாமபு³த்³தி⁴ஸ்தே ந கார்ய தேஷு கும்ப⁴ஜ।
மந்த்ராத்மகம் ஏதேஷாம் நாம்நாம் நாமாத்மதாபி ச ॥ 27 ॥

தஸ்மாதே³காக்³ரமனஸா ஶ்ரோதவ்யம் ச த்வயா ஸதா³ ।
ஸூத உவாச –
இதி யுக்தா தம் ஹயக்³ரீவ: ப்ரோசே நாமஶதத்ரயம் ॥ 28 ॥

॥ இதி ஶ்ரீலலிதா த்ரிஶதீ ஸ்தோத்ர பூர்வ பீடி²கா ஸம்பூர்ணம் ।

॥ ந்யாஸம் ॥
அஸ்ய ஶ்ரீலலிதாத்ரிஶதீ ஸ்தோத்ர மஹாமந்த்ரஸ்ய । ப⁴க³வான் ஹயக்³ரீவ ருʼஷி: । அனுஷ்டப் ச²ந்த:³ ।
ஶ்ரீலலிதாமஹாத்ரிபுரஸுந்த³ரீ தே³வதா । ஐம் பீ³ஜம் । ஸௌ: ஶக்தி: । க்லோம் கீலகம் । மம
சதுர்வித⁴ப²லபுருஷார்த² ஜபே (வா) பராயணே வினியோக:³॥
ஐம் அட்³கு³ஷ்டா²ப்⁴யாம் நம:। க்லீம் தர்ஜனீப்⁴யாம் நம: । ஸௌ: மத்⁴யமாப்⁴யாம் நமऽ ஐம் அநாமிகாப்⁴யாம் நம: ।
க்லோம் கனிஷ்டி²காப்⁴யாம் நம: । ஸௌ: கரதலகரப்ருʼஷ்டா²ப்⁴யாம் நம: ॥
ஐம் ஹ்ருʼத³யாய நம: । க்லோம் ஶிரஸே ஸ்வாஹா । ஸௌ: ஶிகா²யை வஷட । ஐம் கவசாய ஹும் ।
க்லோம் நேத்ரத்ரயாய । ஸௌ: அஸ்வாய ப²ட் । பூ⁴ர்பு⁴வஸ்ஸுவர்மிதி தி³க்³ப³ந்த:⁴ ॥

॥ த்⁴யானம்॥
அதிமது⁴ரசாபஹஸ்தாம்பரிமிதாமோத³ஸௌபா⁴க்³யாம் ।
அருணாமதிஶயகருணாமபி⁴னவகுலஸுந்த³ரீம் வந்தே³ ॥
॥ லம் இத்யாதி³ பஞ்ச பூஜா ॥
லம் ப்ருʼதி²வ்யாத்மிகாயை ஶ்ரீலலிதாம்பி³காயை க³ந்த⁴ம் ஸமர்பயாமி ।
ஹம் ஆகாஶாத்மிகாயை ஶ்ரீலலிதாம்பி³காயை புஷ்யை: பூஜயாமி ।
யம் வாய்வாத்மிகாயை ஶ்ரீலலிதாம்பி³காயை ।
ரம் வஹ்யாத்மிகாயை ஶ்ரீலலிதாம்பி³காயை தீ³பம் த³ர்ஶயாமி ।
வம் அம்ருʼதாத்மிகாயை ஶ்ரீலலிதாம்பி³காயை அம்ருʼதம் மஹானைவேத்³யம் நிவேத³யாமி ।
ஸம் ஸர்வாத்மிகாயை ஶ்ரீலலிதாம்பி³காயை ஸர்வோபசாரபூஜாம் ஸமர்பயாமி ॥
॥ அத² ஶ்ரீலலிதாத்ரிஶதீ ஸ்தோத்ரம் ॥

ககாரரூபா கல்யாணீ கல்யாணகு³ணஶாலினீ ।
கல்யாணஶைலனிலயா கமனீயா கலாவதீ ॥ 1॥

கமலாக்ஷீ கல்மஷக்⁴னீ கருணாம்ருʼத ஸாக³ரா ।
கத³ம்ப³கானனாவாஸா கத³ம்ப³ குஸுமப்ரியா ॥ 2॥

கந்த³ர்பவித்³யா கந்த³ர்ப ஜனகாபாங்க³ வீக்ஷணா ।
கர்பூரவீடீ ஸௌரப்⁴ய கல்லோலித ககுப்தடா ॥ 3॥

கலிதோ³ஷஹரா கஞ்ஜலோசனா கம்ரவிக்³ரஹா ।
கர்மாதி³ ஸாக்ஷிணீ காரயித்ரீ கர்மப²லப்ரதா³ ॥ 4॥

ஏகாரரூபா சைகாக்ஷர்யேகானேகாக்ஷராக்ருʼதி: ।
ஏதத்ததி³த்யனிர்தே³ஶ்யா சைகானந்த³ சிதா³க்ருʼதி: ॥ 5॥

ஏவமித்யாக³மாபோ³த்⁴யா சைகப⁴க்தி மத³ர்சிதா ।
ஏகாக்³ரசித்த நிர்த்⁴யாதா சைஷணா ரஹிதாத்³த்³ருʼதா ॥ 6॥

ஏலாஸுக³ந்தி⁴சிகுரா சைன: கூட வினாஶினீ ।
ஏகபோ⁴கா³ சைகரஸா சைகைஶ்வர்ய ப்ரதா³யினீ ॥ 7॥

ஏகாதபத்ர ஸாம்ராஜ்ய ப்ரதா³ சைகாந்தபூஜிதா ।
ஏத⁴மானப்ரபா⁴ சைஜத³னேகஜக³தீ³ஶ்வரீ ॥ 8॥

ஏகவீராதி³ ஸம்ஸேவ்யா சைகப்ராப⁴வ ஶாலினீ ।
ஈகாரரூபா சேஶித்ரீ சேப்ஸிதார்த² ப்ரதா³யினீ ॥ 9॥

ஈத்³த்³ருʼகி³த்ய வினிர்தே³ஶ்யா சேஶ்வரத்வ விதா⁴யினீ ।
ஈஶானாதி³ ப்³ரஹ்மமயீ சேஶித்வாத்³யஷ்ட ஸித்³தி⁴தா³ ॥ 10॥

ஈக்ஷித்ரீக்ஷண ஸ்ருʼஷ்டாண்ட³ கோடிரீஶ்வர வல்லபா⁴ ।
ஈடி³தா சேஶ்வரார்தா⁴ங்க³ ஶரீரேஶாதி⁴ தே³வதா ॥ 11॥

ஈஶ்வர ப்ரேரணகரீ சேஶதாண்ட³வ ஸாக்ஷிணீ ।
ஈஶ்வரோத்ஸங்க³ நிலயா சேதிபா³தா⁴ வினாஶினீ ॥ 12॥

ஈஹாவிராஹிதா சேஶ ஶக்தி ரீஷத் ஸ்மிதானனா ।
லகாரரூபா லலிதா லக்ஷ்மீ வாணீ நிஷேவிதா ॥ 13॥

லாகினீ லலனாரூபா லஸத்³தா³டி³ம பாடலா ।
லலந்திகாலஸத்பா²லா லலாட நயனார்சிதா ॥ 14॥

லக்ஷணோஜ்ஜ்வல தி³வ்யாங்கீ³ லக்ஷகோட்யண்ட³ நாயிகா ।
லக்ஷ்யார்தா² லக்ஷணாக³ம்யா லப்³த⁴காமா லதாதனு: ॥ 15॥

லலாமராஜத³லிகா லம்பி³முக்தாலதாஞ்சிதா ।
லம்போ³த³ர ப்ரஸூர்லப்⁴யா லஜ்ஜாட்⁴யா லயவர்ஜிதா ॥ 16॥

ஹ்ரீங்கார ரூபா ஹ்ரீங்கார நிலயா ஹ்ரீம்பத³ப்ரியா ।
ஹ்ரீங்கார பீ³ஜா ஹ்ரீங்காரமந்த்ரா ஹ்ரீங்காரலக்ஷணா ॥ 17॥

ஹ்ரீங்காரஜப ஸுப்ரீதா ஹ்ரீம்மதீ ஹ்ரீம்விபூ⁴ஷணா ।
ஹ்ரீம்ஶீலா ஹ்ரீம்பதா³ராத்⁴யா ஹ்ரீங்க³ர்பா⁴ ஹ்ரீம்பதா³பி⁴தா⁴ ॥ 18॥

ஹ்ரீங்காரவாச்யா ஹ்ரீங்கார பூஜ்யா ஹ்ரீங்கார பீடி²கா ।
ஹ்ரீங்காரவேத்³யா ஹ்ரீங்காரசிந்த்யா ஹ்ரீம் ஹ்ரீம்ஶரீரிணீ ॥ 19॥

ஹகாரரூபா ஹலத்⁴ருʼத்பூஜிதா ஹரிணேக்ஷணா ।
ஹரப்ரியா ஹராராத்⁴யா ஹரிப்³ரஹ்மேந்த்³ர வந்தி³தா ॥ 20॥

ஹயாரூடா⁴ ஸேவிதாங்க்⁴ரிர்ஹயமேத⁴ ஸமர்சிதா ।
ஹர்யக்ஷவாஹனா ஹம்ஸவாஹனா ஹததா³னவா ॥ 21॥

ஹத்யாதி³பாபஶமனீ ஹரித³ஶ்வாதி³ ஸேவிதா ।
ஹஸ்திகும்போ⁴த்துங்க குசா ஹஸ்திக்ருʼத்தி ப்ரியாங்க³னா ॥ 22॥

ஹரித்³ராகுங்குமா தி³க்³தா⁴ ஹர்யஶ்வாத்³யமரார்சிதா ।
ஹரிகேஶஸகீ² ஹாதி³வித்³யா ஹாலாமதோ³ல்லஸா ॥ 23॥

ஸகாரரூபா ஸர்வஜ்ஞா ஸர்வேஶீ ஸர்வமங்க³லா ।
ஸர்வகர்த்ரீ ஸர்வப⁴ர்த்ரீ ஸர்வஹந்த்ரீ ஸனாதனா ॥ 24॥

ஸர்வானவத்³யா ஸர்வாங்க³ ஸுந்த³ரீ ஸர்வஸாக்ஷிணீ ।
ஸர்வாத்மிகா ஸர்வஸௌக்²ய தா³த்ரீ ஸர்வவிமோஹினீ ॥ 25॥

ஸர்வாதா⁴ரா ஸர்வக³தா ஸர்வாவகு³ணவர்ஜிதா ।
ஸர்வாருணா ஸர்வமாதா ஸர்வபூ⁴ஷண பூ⁴ஷிதா ॥ 26॥

ககாரார்தா² காலஹந்த்ரீ காமேஶீ காமிதார்த²தா³ ।
காமஸஞ்ஜீவினீ கல்யா கடி²னஸ்தன மண்ட³லா ॥ 27॥

கரபோ⁴ரு: கலானாத² முகீ² கசஜிதாம்பு⁴தா³ ।
கடாக்ஷஸ்யந்தி³ கருணா கபாலி ப்ராண நாயிகா ॥ 28॥

காருண்ய விக்³ரஹா காந்தா காந்திதூ⁴த ஜபாவலி: ।
கலாலாபா கம்பு³கண்டீ² கரனிர்ஜித பல்லவா ॥ 29॥

கல்பவல்லீ ஸமபு⁴ஜா கஸ்தூரீ திலகாஞ்சிதா ।
ஹகாரார்தா² ஹம்ஸக³திர்ஹாடகாப⁴ரணோஜ்ஜ்வலா ॥ 30॥

ஹாரஹாரி குசாபோ⁴கா³ ஹாகினீ ஹல்யவர்ஜிதா ।
ஹரித்பதி ஸமாராத்⁴யா ஹடா²த்கார ஹதாஸுரா ॥ 31॥

ஹர்ஷப்ரதா³ ஹவிர்போ⁴க்த்ரீ ஹார்த³ ஸந்தமஸாபஹா ।
ஹல்லீஸலாஸ்ய ஸந்துஷ்டா ஹம்ஸமந்த்ரார்த² ரூபிணீ ॥ 32॥

ஹானோபாதா³ன நிர்முக்தா ஹர்ஷிணீ ஹரிஸோத³ரீ ।
ஹாஹாஹூஹூ முக² ஸ்துத்யா ஹானி வ்ருʼத்³தி⁴ விவர்ஜிதா ॥ 33॥

ஹய்யங்க³வீன ஹ்ருʼத³யா ஹரிகோபாருணாம்ஶுகா ।
லகாராக்²யா லதாபூஜ்யா லயஸ்தி²த்யுத்³ப⁴வேஶ்வரீ ॥ 34॥

லாஸ்ய த³ர்ஶன ஸந்துஷ்டா லாபா⁴லாப⁴ விவர்ஜிதா ।
லங்க்⁴யேதராஜ்ஞா லாவண்ய ஶாலினீ லகு⁴ ஸித்³தி⁴தா³ ॥ 35॥

லாக்ஷாரஸ ஸவர்ணாபா⁴ லக்ஷ்மணாக்³ரஜ பூஜிதா ।
லப்⁴யதரா லப்³த⁴ ப⁴க்தி ஸுலபா⁴ லாங்க³லாயுதா⁴ ॥ 36॥

லக்³னசாமர ஹஸ்த ஶ்ரீஶாரதா³ பரிவீஜிதா ।
லஜ்ஜாபத³ ஸமாராத்⁴யா லம்படா லகுலேஶ்வரீ ॥ 37॥

லப்³த⁴மானா லப்³த⁴ரஸா லப்³த⁴ ஸம்பத்ஸமுன்னதி: ।
ஹ்ரீங்காரிணீ ச ஹ்ரீங்காரீ ஹ்ரீம்மத்⁴யா ஹ்ரீம்ஶிகா²மணி: ॥ 38॥

ஹ்ரீங்காரகுண்டா³க்³னி ஶிகா² ஹ்ரீங்கார ஶஶிசந்த்³ரிகா ।
ஹ்ரீங்கார பா⁴ஸ்கரருசிர்ஹ்ரீங்காராம்போ⁴த³ சஞ்சலா ॥ 39॥

ஹ்ரீங்கார கந்தா³ங்குரிகா ஹ்ரீங்காரைக பராயணாம் ।
ஹ்ரீங்கார தீ³ர்கி⁴காஹம்ஸீ ஹ்ரீங்காரோத்³யான கேகினீ ॥ 40॥

ஹ்ரீங்காராரண்ய ஹரிணீ ஹ்ரீங்காராவால வல்லரீ ।
ஹ்ரீங்கார பஞ்ஜரஶுகீ ஹ்ரீங்காராங்க³ண தீ³பிகா ॥ 41॥

ஹ்ரீங்கார கந்த³ரா ஸிம்ஹீ ஹ்ரீங்காராம்போ⁴ஜ ப்⁴ருʼங்கி³கா ।
ஹ்ரீங்கார ஸுமனோ மாத்⁴வீ ஹ்ரீங்கார தருமஞ்ஜரீ ॥ 42॥

ஸகாராக்²யா ஸமரஸா ஸகலாக³ம ஸம்ஸ்துதா ।
ஸர்வவேதா³ந்த தாத்பர்யபூ⁴மி: ஸத³ஸதா³ஶ்ரயா ॥ 43॥

ஸகலா ஸச்சிதா³னந்தா³ ஸாத்⁴யா ஸத்³க³திதா³யினீ ।
ஸனகாதி³முனித்⁴யேயா ஸதா³ஶிவ குடும்பி³னீ ॥ 44॥

ஸகாலாதி⁴ஷ்டா²ன ரூபா ஸத்யரூபா ஸமாக்ருʼதி: ।
ஸர்வப்ரபஞ்ச நிர்மாத்ரீ ஸமனாதி⁴க வர்ஜிதா ॥ 45॥

ஸர்வோத்துங்கா³ ஸங்க³ஹீனா ஸகு³ணா ஸகலேஶ்வரீ । ஸகலேஷ்டதா³
ககாரிணீ காவ்யலோலா காமேஶ்வர மனோஹரா ॥ 46॥

காமேஶ்வரப்ரணானாடீ³ காமேஶோத்ஸங்க³ வாஸினீ ।
காமேஶ்வராலிங்கி³தாங்கீ³ கமேஶ்வர ஸுக²ப்ரதா³ ॥ 47॥

காமேஶ்வர ப்ரணயினீ காமேஶ்வர விலாஸினீ ।
காமேஶ்வர தப: ஸித்³தி:⁴ காமேஶ்வர மன: ப்ரியா ॥ 48॥

காமேஶ்வர ப்ராணனாதா² காமேஶ்வர விமோஹினீ ।
காமேஶ்வர ப்³ரஹ்மவித்³யா காமேஶ்வர க்³ருʼஹேஶ்வரீ ॥ 49॥

காமேஶ்வராஹ்லாத³கரீ காமேஶ்வர மஹேஶ்வரீ ।
காமேஶ்வரீ காமகோடி நிலயா காங்க்ஷிதார்த²தா³ ॥ 50॥

லகாரிணீ லப்³த⁴ரூபா லப்³த⁴தீ⁴ர்லப்³த⁴ வாஞ்சிதா ।
லப்³த⁴பாப மனோதூ³ரா லப்³தா⁴ஹங்கார து³ர்க³மா ॥ 51॥

லப்³த⁴ஶக்திர்லப்³த⁴ தே³ஹா லப்³தை⁴ஶ்வர்ய ஸமுன்னதி: ।
லப்³த⁴வ்ருʼத்³தி⁴ர்லப்³த⁴லீலா லப்³த⁴யௌவன ஶாலினீ ॥ 52॥ லப்³த⁴பு³தி:⁴

லப்³தா⁴திஶய ஸர்வாங்க³ ஸௌந்த³ர்யா லப்³த⁴ விப்⁴ரமா ।
லப்³த⁴ராகா³ லப்³த⁴பதிர்லப்³த⁴ நானாக³மஸ்தி²தி: ॥ 53॥ லப்³த⁴க³தி

லப்³த⁴ போ⁴கா³ லப்³த⁴ ஸுகா² லப்³த⁴ ஹர்ஷாபி⁴ பூஜிதா ।
ஹ்ரீங்கார மூர்திர்ஹ்ரீண்கார ஸௌத⁴ஶ்ருʼங்க³ கபோதிகா ॥ 54॥

ஹ்ரீங்கார து³க்³தா⁴ப்³தி⁴ ஸுதா⁴ ஹ்ரீங்கார கமலேந்தி³ரா ।
ஹ்ரீங்காரமணி தீ³பார்சிர்ஹ்ரீங்கார தருஶாரிகா ॥ 55॥

ஹ்ரீங்கார பேடக மணிர்ஹ்ரீங்காரத³ர்ஶ பி³ம்பி³தா ।
ஹ்ரீங்கார கோஶாஸிலதா ஹ்ரீங்காராஸ்தா²ன நர்தகீ ॥ 56॥

ஹ்ரீங்கார ஶுக்திகா முக்தாமணிர்ஹ்ரீங்கார போ³தி⁴தா ।
ஹ்ரீங்காரமய ஸௌவர்ணஸ்தம்ப⁴ வித்³ரும புத்ரிகா ॥ 57॥

ஹ்ரீங்கார வேதோ³பனிஷத்³ ஹ்ரீங்காராத்⁴வர த³க்ஷிணா ।
ஹ்ரீங்கார நந்த³னாராம நவகல்பக வல்லரீ ॥ 58॥

ஹ்ரீங்கார ஹிமவத்³க³ங்கா³ ஹ்ரீங்காரார்ணவ கௌஸ்துபா⁴ ।
ஹ்ரீங்கார மந்த்ர ஸர்வஸ்வா ஹ்ரீங்காரபர ஸௌக்²யதா³ ॥ 59॥

॥ இதி ஶ்ரீலலிதாத்ரிஶதீஸ்தோத்ரம் ஸம்பூர்ணம் ॥

॥ ஶ்ரீலலிதா த்ரிஶதீ உத்தர பீடி²கா ॥
ஹயக்³ரீவ உவாச –
இத்யேவம் தே மயாக்²யாதம் தே³வ்யா நாமஶதத்ரயம் ।
ரஹஸ்யாதிரஹஸ்யத்வாத்³கோ³பனீயம் த்வயா முனே ॥ 1 ॥

ஶிவவர்ணானி நாமானி ஶ்ரீதே³வ்யா கதி²தானி ஹி ।
ஶக்தயக்ஷராணி நாமானி காமேஶகதி²தானி ச ॥ 2 ॥

உப⁴யாக்ஷரநாமானி ஹ்யுபா⁴ப்⁴யாம் கதி²தானி வை ।
தத³ன்யைர்க்³ரதி²தம் ஸ்தோத்ரமேதஸ்ய ஸத்³ருʼஶம் கிமு ॥ 3 ॥

நானேன ஸத்³ருʼஶம் ஸ்தோத்ரம் ஶ்ரீதே³வீ ப்ரீதிதா³யகம் ।
லோகத்ரயேऽபி கல்யாணம் ஸம்ப⁴வேன்னாத்ர ஸம்ஶய:॥ 4 ॥

ஸூத உவாச –
இதி ஹயமுக²கீ³தம் ஸ்தோத்ரராஜம் நிஶம்ய
ப்ரக³லித கலுஷோऽப்⁴ருʼச்சித்தபர்யாப்திமேத்ய ।
நிஜகு³ருமத² நத்வா கும்ப⁴ஜன்மா தது³க்தம்
புனரதி⁴கரஹஸ்யம் ஜ்ஞாதுமேவம் ஜகா³த³ ॥ 5 ॥

அக³ஸ்த்ய உவாச —
அஶ்வானன மஹாபா⁴க³ ரஹஸ்யமபி மே வத³ ।
ஶிவவர்ணானி கான்யத்ர ஶக்திவர்ணானி கானி ஹி ॥ 6 ॥

உப⁴யோரபி வர்ணானி கானி வா வத³ தே³ஶிக।
இதி ப்ருʼஷ்ட: கும்ப⁴ஜேன ஹயக்³ரீவோऽவத³த்யுன: ॥ 7 ॥

ஹயக்³ரீவ உவாச –
தவ கோ³ப்யம் கிமஸ்தீஹ ஸாக்ஷாத³ம்பா³னுஶாஸனாத் ।
இத³ம் த்வதிரஹஸ்யம் தே வக்ஷ்யாமி கும்ப⁴ஜ ॥ 8॥

ஏதத்³விஜ்ஞனமாத்ரேண ஶ்ரிவித்³யா ஸித்³தி⁴தா³ ப⁴வேத் ।
கத்ரயம் ஹத்³ப³யம் சைவ ஶைவோ பா⁴க:³ ப்ரகீர்தித: ॥ 9 ॥

ஶக்தயக்ஷராணி ஶேஷாணிஹ்ரீங்கார உப⁴யாத்மக: ।
ஏவம் விபா⁴க³மஜ்ஞாத்வா யே வித்³யாஜபஶாலின: ॥ 10 ॥

ந தேஶாம் ஸித்³தி⁴தா³ வித்³யா கல்பகோடிஶதைரபி ।
சதுர்பி:⁴ ஶிவசக்ரைஶ்ச ஶக்திசக்ரைஶ்ச பஞ்சபி:⁴ ॥ 11 ॥

நவ சக்ரைஶ்ல ஸம்ஸித்³த⁴ம் ஶ்ரீசக்ரம் ஶிவயோர்வபு: ।
த்ரிகோணமஷ்டகோனம் ச த³ஶகோணத்³ப³யம் ததா² ॥ 12 ॥

சதுர்த³ஶாரம் சைதானி ஶக்திசக்ராணி பஞ்ச ச ।
பி³ந்து³ஶ்சாஷ்டத³லம் பத்³மம் பத்³மம் ஷோட³ஶபத்ரகம் ॥ 13 ॥

சதுரஶ்ரம் ச சத்வாரி ஶிவசக்ராண்யனுக்ரமாத் ।
த்ரிகோணே பை³ந்த³வம் ஶ்லிஷ்டம் அஷ்டாரேஷ்டத³லாம்பு³ஜம் ॥ 14 ॥

த³ஶாரயோ: ஷோட³ஶாரம் பூ⁴க்³ருʼஹம் பு⁴வனாஶ்ரகே ।
ஶைவாநாமபி ஶாக்தாநாம் சக்ராணாம் ச பரஸ்பரம் ॥ 15 ॥

அவினாபா⁴வஸம்ப³ந்த⁴ம் யோ ஜானாதி ஸ சக்ரவித் ।
த்ரிகோணரூபிணி ஶக்திர்பி³ந்து³ரூபபர: ஶிவ: ॥ 16 ॥

அவினாபா⁴வஸம்ப³ந்த⁴ம் தஸ்மாத்³விந்து³த்ரிகோணயோ: ।
ஏவம் விபா⁴க³மஜ்ஞாத்வா ஶ்ரீசக்ரம் ய: ஸமர்சயேத் ॥ 17 ॥

ந தத்ப²லமவாப்னோதி லலிதாம்பா³ ந துஷ்யதி ।
யே ச ஜானந்தி லோகேऽஸ்மின்ஶ்ரீவித்³யாசக்ரவேதி³ன: ॥ 18 ॥

ஸாமன்யவேதி³ன: ஸர்வே விஶேஷஜ்ஞோऽதிது³ர்லப:⁴ ।
ஸ்வயம் வித்³யா விஶேஷஜ்ஞோ விஶேஷஜ்ஞ ஸமர்சயேத் ॥ 19 ॥

தஸ்மை: தே³யம் ததோ க்³ராஹ்யமஶக்தஸ்தவ்யதா³பயேத்।
அந்த⁴ந்தம: ப்ரவிஶந்தி யே ऽவித்³யாம் ஸமுபாஸதே ॥ 20 ॥

இதி ஶ்ருதிரபாஹைதானவித்³யோபாஸகான்புன: ।
வித்³யான்யோபாஸகானேவ நிந்த³த்யாருணிகீ ஶ்ருதி: ॥ 21 ॥

அஶ்ருதா ஸஶ்ருதாஸஶ்வ யஜ்சானோம் யேऽப்யயஞ்ஜன: ।
ஸவர்யந்தோ நாபேக்ஷந்தே இந்த்³ரமக்³னிஶ்ச யே விது:³ ॥ 22 ॥

ஸிகதா இவ ஸம்யந்தி ரஶ்மிபி:⁴ ஸமுதீ³ரிதா: ।
அஸ்மால்லோகாத³முஷ்மாச்சேத்யாஹ சாரண்யக ஶ்ருதி: ॥ 23 ॥

யஸ்ய நோ பஶ்சிமம் ஜன்ம யதி³ வா ஶங்கர: ஸ்வயம்।
தேனைவ லப்⁴யதே வித்³யா ஶ்ரீமத்பச்சத³ஶாக்ஷரீ ॥ 24 ॥

இதி மந்த்ரேஷு ப³ஹுதா⁴ வித்³யாயா மஹிமோச்யதே ।
மோக்ஷைகஹேதுவித்³யா து ஶ்ரீவித்³யா நாத்ர ஸம்ஶய: ॥ 25 ॥

ந ஶில்பதி³ ஜ்ஞானயுக்தே வித்³வச்ச²வ்த:⁴ ப்ரயுஜ்யதே ।
மோக்ஷைகஹேதுவித்³யா ஸா ஶ்ரீவித்³யைவ ந ஸம்ஶய: ॥ 26 ॥

தஸ்மாத்³வித்³யாவிதே³வாத்ர வித்³வான்வித்³வானிதீர்யதே ।
ஸ்வயம் வித்³யாவிதே³ த³த்³யாத்க்²யாபயேத்தத்³கு³ணான்ஸுதீ:⁴ ॥ 27 ॥

ஸ்வயம்வித்³யாரஹஸ்யஜ்ஞோ வித்³யாமாஹாத்ம்யமவேத்³யபி
வித்³யாவித³ம் நார்சயேச்சேத்கோ வா தம் பூஜயேஜ்ஜன: ॥ 28 ॥

ப்ரஸங்கா³தி³த³முக்தம் தே ப்ரக்ருʼதம் ஶ்ருʼணு கும்ப⁴ஜ ।
ய: கீர்தயேத்ஸக்ருʼத்ப⁴க்தயா தி³வ்யநாமஶதத்ரயம் ॥ 29 ॥

தஸ்ய புண்யமஹம் வக்ஷ்யே த்³வம் கும்ப⁴ஸம்ப⁴வ ।
ரஹஸ்யநாமஸாஹஸ்ரபாடே² யத்ப²லமீரிதம் ॥ 30॥

தத்ப²லம் கோடிகு³ணிதமேகநாமஜபாத்³ப⁴வேத் ।
காமேஶ்வரீகாமேஶாப்⁴யாம் க்ருʼதம் நாமஶதத்ரயம் ॥ 31 ॥

நான்யேன துலயேதே³தத்ஸ்தோத்ரேணான்ய க்ருʼதேன ச ।
ஶ்ரிய: பரம்பரா யஸ்ய பா⁴வி வா சோத்தரோத்தரம் ॥ 32 ॥

தேனைவ லப்⁴யதே சைதத்பஶ்சாச்சே²ய: பரீக்ஷயேத் ।
அஸ்யா நாம்நாம் த்ரிஶத்யாஸ்து மஹிமா கேன வர்ணயதே ॥ 33 ॥

யா ஸ்வயம் ஶிவயோர்வக்தபத்³மாப்⁴யாம் பரினி:ஸ்ருʼதா ।
நித்யம் ஷோட³ஶஸங்க்²யாகான்விப்ரானாதௌ³ து போ⁴ஜயேத் ॥ 34 ॥

அப்⁴யக்தாம்ஸிதிலதைலேன ஸ்னாதானுஷ்ணேன வாரிணா ।
அப்⁴யர்ச க³ந்த⁴புஷ்பாத்³யை: காமேஶ்வர்யாதி³நாமபி:⁴ ॥ 35 ॥

ஸூபாபூபை: ஶர்கராத்³மை: பாயஸை: ப²லஸம்யுதை: ।
வித்³யாவிதோ³ விஶேஷேண போ⁴ஜயேத்போட³ஶ த்³விஜான் ॥ 36 ॥

ஏவம் நித்யார்சனம் குர்யாதாதௌ³ ப்³ராஹ்மண போ⁴ஜனம் ।
த்ரிஶதீநாமபி:⁴ பஶ்சாத்³வாஹ்மணான்க்ரமஶோऽர்சயேத் ॥ 37 ॥

தைலாப்⁴யங்கா³திகம் த³த்வா விப⁴வே ஸதி ப⁴க்தித: ।
ஶுக்லப்ரதிபதா³ரப்⁴ய பௌர்ணமாஸ்யவதி⁴ க்ரமாத் ॥ 38 ॥

தி³வஸே தி³வஸே விப்ரா போ⁴ஜ்யா விம்ஶதீஸங்க்²யயா ।
த³ஶபி:⁴ பஞ்சபி⁴ர்வாபி த்ரீபி⁴ரேகனவா தி³னை: ॥ 39 ॥

த்ரிம்ஶத்பஷ்டி: ஶதம் விப்ரா: ஸம்போ⁴ஜ்யஸ்திஶதம் க்ரமாத் ।
ஏவம் ய: குருதே ப⁴க்தயா ஜன்மமத்⁴யே ஸக்ருʼன்னர: ॥ 40 ॥

தஸ்யைவ ஸப²லம் ஜன்ம முக்திஸ்தஸ்ய கரே ஸ்தி²ரா: ।
ரஹஸ்யநாம ஸாஹஸ்த்ர போ⁴ஜனேऽப்யேவ்மேவஹி ॥ 41 ॥

ஆதௌ³ நித்யப³லிம் குர்யாத்பஶ்சாத்³வாஹ்மணபோ⁴ஜனம் ।
ரஹஸ்யநாமஸாஹஸ்ரமஹிமா யோ மயோதி³த: ॥ 42 ॥

ஸஶிகராணுரத்ரைகநாமப்னோ மஹிமவாரிதே:⁴ ।
வாக்³தே³வீரசிதே நாமஸாஹஸ்னே யத்³யதீ³ரிதம் ॥ 43 ॥

தத்ப²லம் கோடிகு³ணிதம் நாம்னோऽப்யேகஸ்ய கீர்தனாத் ।
ஏதன்யைர்ஜபை: ஸ்தோத்ரைரர்சனைர்யத்ப²லம் ப⁴வேத் ॥ 44 ॥

தத்ப²லம் கோடிகு³ணிதம் ப⁴வேன்நாமஶதத்ரயாத் ।
வாக்³தே³விரசிதாஸ்தோத்ரே தாத்³ருʼஶோ மஹிமா யதி³ ॥ 45 ॥

ஸாக்ஷாத்காமேஶகாமேஶீ க்ருʼதே ऽஸ்மின்க்³ருʼஹ்ருʼதாமிதி ।
ஸக்ருʼத்ஸன்கீர்தனாதே³வ நாம்நாம்னஸ்மிவ்ஶதத்ரயே ॥ 46 ॥

ப⁴வேச்சித்தஸ்ய பர்யப்திர்ன்யூனமன்யானபேக்ஷிணீ ।
ந ஜ்ஞாதவ்யமிதோऽப்யன்யத்ர ஜப்தவ்யஶ்ச கும்ப⁴ஜ ॥ 47 ॥

யத்³யத்ஸாத்⁴யதமம் கார்ய தத்தத³ர்த²மித³ஞ்ஜபேத் ।
தத்தத்ப²லமவாப்னோதி பஶ்சாத்கார்ய பரீக்ஷயேத் ॥ 48 ॥

யே யே ப்ரயோகா³ஸ்தந்த்ரேஷு தைஸ்தைர்யத்ஸாத்⁴யதே ப²லம் ।
தத்ஸர்வ ஸித்³த⁴யதி க்ஷிப்ரம் நாமத்ரிஶதகீர்தனாத் ॥ 49॥

ஆயுஷ்கரம் புஷ்டிகரம் புத்ரத³ம் வஶ்யகாரகம் ।
வித்³யாப்ரத³ம் கீர்திகரம் ஸுக²வித்வப்ரதா³யகம் ॥ 50 ॥

ஸர்வஸம்பத்ப்ரத³ம் ஸர்வபோ⁴க³த³ம் ஸர்வஸௌக்²யத³ம் ।
ஸர்வாபி⁴ஷ்டப்ரத³ம் சைவ தே³வ்யா நாமஶதத்ரயம் ॥ 51 ॥

ஏதஜ்ஜபபரோ பூ⁴யான்னான்யதி³ச்சே²த்கதா³சன ।
ஏதத்கீர்தனஸந்துஷ்டா ஶ்ரீதே³வீ லலிதாம்பி³கா ॥ 52 ॥

ப⁴க்தஸ்ய யத்³யதி³ஷ்டம் ஸ்யாத்தத்தத்யூரயதே த்⁴ருவம் ।
தஸ்மாத்குபோ⁴த்³ப⁴வமுனே கீர்தய த்வமித³ம் ஸதா³ ॥ 53 ॥

நாபரம் கிஞ்சித³பி தே போ³த்³த⁴வ்யம் நாவஶிஷ்யதே ।
இதி தே கதி²தம் ஸ்தோத்ர லலிதா ப்ரீதிதா³யகம் ॥ 54 ॥

நாவித்³யாவேதி³னே ப்³ரூயான்னாப⁴க்தாய கதா³சன ।
ந ஶடா²ய ந து³ஷ்டாய நாவிஶ்வாஸாய கஹிர்சித்॥ 56 ॥

யோ ப்³ரூயாத்ரிஶதீம் நாம்நாம் தஸ்யானர்தோ² மஹான்ப⁴வேத் ।
இத்யாஜ்ஞா ஶாங்கரீ ப்ரோக்தா தஸ்மாத்³கோ³ப்யமித³ம் த்வயா ॥ 57 ॥

லலிதா ப்ரேரிதேனைவ மயோக்தம் ஸ்தோத்ரமுத்தமம் ।
ரஹஸ்யநாமஸாஹஸ்ராத³பி கோ³ப்யமித³ம் முனே ॥ 58 ॥

ஸூத உவாச –
ஏவமுக்த்வா ஹயக்³ரீவ: கும்ப⁴ஜம் தாபஸோத்தமம் ।
ஸ்தோத்ரேணானேன லலிதாம் ஸ்துத்வா த்ரிபுரஸுந்த³ரீ ॥
ஆனந்த³லஹரீமக்³னரமானஸ: ஸமவர்தத ॥ 59 ।

॥ இதி ஶ்ரீ ப்³ரஹ்மாண்ட³புராணே உத்தராக²ண்டே³
ஶ்ரீ ஹயக்³ரீவாக³ஸ்த்யஸம்வாதே³
ஶ்ரீலலிதாத்ரிஶதீ ஸ்தோத்ர கத²னம் ஸம்பூர்ணம் ॥

Jul 042017
 

Lalitha Trishatee Stotram

kakaararoopaa kalyaaNee kalyaaNaguNashaalinee |
kalyaaNashailanilayaa kamaneeyaa kalaavatee | | 1 ||

kamalaakshee kalmashaghnee karuNaamrutasaagaraa |
kadaMbakaananaavaasaa kadaMba kusumapriyaa || 2 ||

kandarpavidyaa kandarpa janakaapaangaveekshaNaa |
karpooraveeTee sourabhya kallolita kakuptaTaa || 3 |

kalidoshaharaa kanjalochanaa karmavigrahaa |
karmaadisaakshiNee kaarayitree karmaphalapradaa || 4 ||

ekaararoopaa cha ekaakshah ekaanekaaksharaakrutih |
etattaaditya nirdeshyaa chaikaananda chidaakrutih || 5 ||

evamityaagamaabodhyaa chaikabhakti madarchitaa |
ekaagrachitta nirdhyaataa chaishaNaa rahitaaddrutaa || 6 ||

elaasugandhichikuraa chainah kooTa vinaashinee |
ekabhogaa chaikarasaa chaikaishvarya pradaayinee || 7 ||
ekaatapatra saamraajyapradaa chaikaantapoojitaa |
edhamaanaprabhaa chaijadaneka jagadeeshvaree || 8 ||

ekaveeraadi samsevyaa chaikaprabhavashaalinee |
eekaararoopaa cheshitree chepsitaartha pradaayinee || 9 ||

eeddrugitya vinirdeshyaa cheshvaratva vidhaayinee |
eeshaanaadi brahmamayee cheshitvaadyashTa siddhidaa || 10 ||

eekshitreekshaNa srushTaaNDa koTireeshvaravallabhaa |
eeDitaa cha eeshvaraardhaanga shareereshaadhi devataa || 11 ||

eeshvara preraNakaree cheshataaNDavasaakshiNee |
eeshvarotsanganilayaa chetibaadhaa vinaashinee || 12 ||

eehaaviraahitaa cheshashaktireeshat smitaananaa |
lakaararoopaa lalitaa lakshmee vaaNee nishevitaa || 13 ||

laakinee lalanaaroopaa lasaddaaDimapaaTalaa |
lalantikaalasatphaalaa lalaaTa nayanaarchitaa || 14 ||

lakshaNojjvala divyaangee lakshakoTyaNDa naaayikaa |
lakshyaarthaa lakshaNaagamyaa labdhakaamaa lataatanuh || 15 ||

lalaamaraajadalikaa lambimuktaa lataanchitaa |
lambodaraprasooh labhyaa lajjaaDhyaa layavarjitaa || 16 ||

hreemkaararoopaa hreemkaaranilayaa hreempadapriyaa |
hreemkaarabeejaa hreemkaaramantraa hreemkaaralakshaNaa || 17 ||

hreemkaarajapasupreetaa hreemmatee hreemvibhooshaNaa |
hreemsheelaa hreempadaaraadhyaa hreemgarbhaa hreempadaabhidhaa || 18 ||

hreemkaaravaachyaa hreemkaarapoojyaa hreemkaarapeeThikaa |
hreemkaaravedyaa hreemkaarachintyaa hreem hreemshareeriNee || 19 ||

hakaararoopaa haladhrutpoojitaa hariNekshaNaa |
harapriyaa haraaraadhyaa haribrahmendravanditaa || 20 ||

hayaarooDhaasevitaanghrih hayamedhasamarchitaa |
haryakshavaahanaa hamsavaahanaa hatadaanavaa || 21 ||

hatyaadipaapashamanee haridashvaadisevitaa |
hastikuMbhottungakuchaa hastikruttti priyaanganaa || 22 ||

haridraakumkumaadigdhaa haryashvaadyamaraarchitaa |
harikeshasakhee haadividyaa hallaamadaalasaa || 23 ||

sakaararoopaa sarvagyaa sarveshee sarvamangalaa |
sarvakartree sarvabhartree sarvahantree sanaatanaa || 24 ||

sarvaanavadyaa sarvaangasundaree sarvasaakshiNee |
sarvaatmikaa sarvasoukhyadaatree sarvavimohinee || 25 ||

sarvaadhaaraa sarvagataa sarvaavaguNavarjitaa |
sarvaaruNaa sarvamaataa sarvabhooshaNabhooshitaa || 26 ||

kakaaraarthaa kaalahantree kaameshee kaamitaarthadaa |
kaamasaMjeevanee kaalyaa kaThinastanamanDalaa || 27 ||

karabhoruh kalaanaathamukhee kachajitaaMbhudaa |
kaTaakshasyandi karuNaa kapaalipraaNanaayikaa || 28 ||

kaaruNyavigrahaa kaantaa kaantidhoota japaavalih |
kalaalaapaa kambukanThee karanirjita pallavaa || 29 ||

kalpavallee samabhujaa kastooree tilakaanchitaa |
hakaaraarthaa hamsagatih haaTakaabharaNojjvalaa || 30 ||

haarahaari kuchaabhogaa haakinee halyavarjitaa |
haritpati samaaraadhyaa haThaatkaara hataasuraa || 31 ||

harshapradaa havirbhoktree haardasantamasaapahaa |
halleesalaasyasantushTaa hamsamantraartharoopiNee || 32 ||

haanopaadaana nirmuktaa harshiNee harisodaree |
haahaa hoohoo mukhastutyaa haanivruddhivivarjitaa || 33 ||

hayyangaveenahrudayaa harikopaaruNaamshukaa |
lakaaraakhyaa lataapoojyaa layasthityudbhaveshvaree || 34 ||

laasyadarshanasantushTaa laabhaalaabhavivarjitaa |
langhayetaraagyaa laavaNyashaalinee laghusiddhidaa || 35 ||

laakshaarasa savarNaabhaa lakshmaNaagrajapoojitaa |
labhyataraa labdhabhaktisulabhaa laangalaayudhaa || 36 ||

lagnachaamarahasta shreeshaaradaa pariveejitaa |
lajjaapadasamaaraadhyaa lampaTaa lakuleshvaree || 37 ||

labdhamaanaa labdharasaa labdhasampat samunnatih |
hreemkaariNee cha hreemkaari hreemmadhyaa hreemshikhaamaNih || 38 ||

hreemkaarakunDaagni shikhaa hreemkaara shashichandrikaa |
hreemkaara bhaaskararuchih hreemkaaraambhoda chanchalaa || 39 ||

hreemkaarakandaankurikaa hreemkaaraikaparaayaNaam |
hreemkaaradeerghikaahamse hreemkaarodyaana kekinee || 40 ||

hreemkaaraaraNyahariNee hreemkaaraavaalavallaree |
hreemkaarapanjarashukee hreemkaaraangaNadeepikaa || 41 ||

hreemkaarakandaraasimhee hreemkaaraambhojabhrungikaa |
hreemkaarasumanomaadhvee hreemkaaratarumanjaree || 42 ||

sakaaraakhyaa samarasaa sakalaagama samstutaa |
sarvavedaanta taatparyabhoomih sadasadaashrayaa || 43 ||

sakalaa sacchidaanandaa saadhyaa sadgatidaayinee |
sanakaadimunidhyeyaa sadaashivakuTumbinee || 44 ||

sakaalaadhishThaanaroopaa satyaroopaa samaakrutih |
sarvaprapanchanirmaatree samanaadhikavarjitaa || 45 ||

sarvottungaa sangaheenaa saguNaa sakaleshvaree |
kakaariNee kaavyalolaa kaameshvaramanoharaa || 46 ||

kaameshvarapraaNanaaDee kaameshotsangavaasinee |
kaameshvaraalingitaangee kaameshvarasukhapradaa || 47 ||

kaameshvarapraNayinee kaameshvaravilaasinee |
kaameshvara tapahsiddhih kaameshvaramanahpriyaa || 48 ||

kaameshvarapraaNanaathaa kaameshvaravimohinee |
kaameshvarabrahmavidyaa kaameshvaragruheshvaree || 49 ||

kaameshvaraahlaadakaree kaameshvaramaheshvaree |
kaameshvaree kaamakoTinilayaa kaankshitaarthadaa || 50 ||

lakaariNee labdharoopaa labdhadheeh labdhavaanChitaa |
labdhapaapamanodooraa labdhaahankaara durgamaa || 51 ||

labdhashaktih labdhadehaa labdhaishvarya samunnatih |
labdhavruddhih labdhaleelaa labdhayouvanashaalinee || 52 ||

labdhaatishaya sarvaangasoundaryaa labdhavibhramaa |
labdharaagaa labdhapatih labdhanaanaagamastitih || 53 ||

labdhabhogaa labdhasukhaa labdhaharshaabhipoojitaa |
hreemkaaramoortih hreemkaarasoudhashrunga kapotikaa || 54 ||

hreemkaaradugdhaabdhi sudhaa hreemkaarakamalendiraa |
hreemkaaramaNideepaarchi hreemkaaratarushaarikaa || 55 ||

hreemkaarapeTakamaNIh hreemkaaradarshabimbitaa |
hreemkaarakoshaasilataa hreemkaarasthaananartakee || 56 ||

hreemkaarashuktikaa muktikaamaNih hreemkaarabodhitaa |
hreemkaaramaya souvarNastambha vidrumaputrikaa || 57 ||

hreemkaaravedopanishad hreemkaaraadhvaradakshiNaa |
hreemkaaranandanaaraama navakalpakavallaree || 58 ||

hreemkaarahimavadgangaa hreemkaaraarNavakoustubhaa |
hreemkaaramantrasarvasvaa hreemkaaraparasoukhyadaa || 59 ||

|| iti shree brahmaanDapuraaNe uttaraakhanDe shree hayagreeva-agastya samvaade
shree lalitaa trishatee stotram sampoorNam ||

Jul 192014
 

தமிழில் ஸ்ரீ தேவி அபராதக்ஷமாபன ஸ்தோத்ரம்

देवनागरी में देव्पराधक्षमापनस्तोत्रम्

na mantram no yantram tadapi cha na jaane stutimaho

na cha aavhaanam dhyaanam tadapi cha na jaane stutikathaaha |

na jaane mudraaste tadapi cha na jaale vilapanam

param jaane maatah tvadanusaraNam kleshaharaNam || 1 ||

vidheragyaanena draviNa viraheNaa lasatayaa

vidheyaashakyatvaat tava charaNayoryaa achyutirabhoot |

tadetat kshantavyam janani sakaloddhaariNi shive

kuputro jaayeta kvachidapi kumaataa na bhavati || 2 ||

pruthivyaam putraaste janani bahavah santi saralaah

param teshaam madhye viralataralo aham tava sutaha |

madeeyo ayam tyaagah samuchitam idam no tava shive

kuputro jaayeta kvachidapi kumaataa na bhavati || 3 ||

jaganmaatarmaatah tava charaNasevaa na rachitaa

na vaa dattam devi draviNam api bhooyastava mayaa |

tathaapi tvam sneham mayi nirupamam yat prakurushe

kuputro jaayeta kvachidapi kumaataa na bhavati || 4 ||

parityaktaa devaa vividha vidha sevaa kulatayaa

mayaa panchaa sheeteh adhikamapaneete tu vayasi |

idaaneem chenmaatastava yadi krupaa naapi bhavitaa

niraalambo lambodarajanani kam yaami sharaNam || 5 ||

shvaapako jalpaako bhavati madhupaakopamagiraa

niraatanko ranko viharati chiraM koTikanakaihi |

tavaaparNe karNe vishati manu varNe phalamidam

janah ko jaaneete janani jananeeyam japavidhou || 6 ||

chitaabhasmaalepo garalashamanam dikpaTadharo

jaTaadhaaree kanThe bhujagapatihaaree pashupatihi |

kapaalee bhootesho bhajati jagadeeshaika padaveem

bhavaani tvat paaNigrahaNa paripaaTee phalam idam || 7 ||

na mokshasya aakaankshaa bhavavibhava vaanChaapi cha na me

na vigyaana apekshaa shashimukhi sukhecChaapi na punaha |

atah tvaam sanchaaye janani jananam yaatu mama vai

mruDaanee rudraaNee shiva shiva bhavaanee iti japataha || 8 ||

na aaraadhitaasi vidhinaa vividha upachaaraih

kim rukshachintanaparairna krutam vachobhihi |

shyaame tvameva yadi kinchana mayyanaathe

dhatse krupaam uchitam amba param tavaiva || 9 ||

aapatsu magnah smaraNam tvadeeyam

karomi durge karuNaarNaveshi |

naitat ChaThatvam mama bhaavayethaah

kshudhaa trushaartaa jananeem smaranti || 10 ||

jagadamba vichitram atra kim paripoorNaa karuNaasti chenmayi |

aparaadha paramparaavrutam na hi maataa samupekshate sutam || 11 ||

matsamah paatakee naasti paapaghnee tvatsamaa na hi |

evam gyaatvaa mahaadevi yathaa yogyam tathaa kuru || 12 ||

|| iti devee aparaadha kshamaa stotram sampoorNam ||

Jul 192014
 

 

देवनागरी में देव्पराधक्षमापनस्तोत्रम्

Devi aparadha kshamapana stotram in Latin Script

ஸ்ரீ தேவி அபராதக்ஷமாபன ஸ்தோத்ரம்
ஆதி சங்கரர் இயற்றியது

ந மந்த்ரம்நோ யந்த்ரம் ததபி ந ஜானே ஸ்துதிமஹோ
ந சாஹ்வாநம் த்யானம் ததபிச ந ஜானேஸ் துதிகதா:
ந ஜானே முத்ராஸ்தே ததபிச ந ஜானே விலபனம்
பரம் ஜானே மாதஸ் த்வதநுஸரணம் க்லேசஹரணம்

விதேரக்ஞானேன த்ரவிண விரஹேணாலஸதயா
விதேயா சக்யத்வாத் தவ சரணயோர்யா ச்யுதிரபூத்
ததேதத் க்ஷந்தவ்யம் ஜனன ஸகலோத்தாரிணி சிவே
குபுத்ரோ ஜாயேத க்வசிதபி குமாதா ந பவதி

ப்ருதிவ்யாம் புத்ராஸ் தே ஜனனி பஹவஸ்ஸந்தி ஸரளா:
பரம் தேஷாம் மத்யே விரள தரளோஹம்தவஸூத:
மதீயோயம் த்யாகஸ் ஸமுக்த மிதம் நோ தவ சிவே
குபுத்ரோ ஜாயேத் க்வசிதபி குமாரோ ந பவதி

ஜகத்மாதர் மாதஸ்தவ சரண ஸேவா ந ரசிதா
ந வா தத்தம் தேவி த்ரவிணமபிபூயஸ் தவ மயா
ததாபி த்வம் ஸ்னேஹம் மயி நிருபமம் யத் ப்ரகுருஷே
குபுத்ரோ ஜாயேத் க்வசிதபி குமாதா ந பவதி

பரித்யக்த்வா தேவான் விவிதவித ஸேவாகுலதயா
மயா பஞ்சாசீதே ரதிக மபநீதே து வயஸி
இதானீம் சேன்மாதஸ் தவ யதி க்ருபா நாபி பவிதா
நிராலம்போ லம்போதர ஜனனீ கம்யாமி சரணம்

ச்வபாகோ ஜல்பாகோ பவதி மதுபாகோபமகிரா
நிராதங்கோ ரங்கோ விஹரதி சிரம் கோடிகனகை
தவாபர்ணே கர்ணே விசதி மநுவர்ணே பலமிதம்
ஜன: கோ ஜானீதே ஜனனீ நுபநீயம் ஜபவிதௌ

சிதாபஸ்மா லேபோ கரளமசனம் திக்படதரோ
ஜடாதாரீ கண்டே புஜக பதி ஹாரீ பசுபதி
கபாலீ பூதேசோ பஜதி ஜகதீசைக பதவீம்
பவாநி த்வந் பாணிக்ரஹண பரிபாடீ பலமிதம்

ந மோக்ஷஸ்யாகாங்க்ஷõ ந ச விபவ வாஞ்சாபி ச ந மே
விக்ஞானாபேக்ஷõ சசிமுகி ஸூகேச்சாபி ந புன
அதஸ்த்வாம் ஸம்யாசே ஜநநி யாது மம வை
ம்ருடாநீ ருத்ராணீ சிவசிவ பவாநீதி ஜபத

நாராதாஸீ விதினா விவிதோபசாரை
கிம் ரூக்ஷõசிந்தனபரைர் ந க்ருதம் வசோபி:
ச்யாமே த்வமேவ யதிகிஞ்ஞன மய்யநாதே
தத்ஸே க்ருபாமுசித மம்ப பரம் தவைவ

ஆபத்ஸூமக்ன: ஸ்மரணம் த்வதீயம்
கரோமி துர்க்கே கருணார்ணவேதி
நைதச் சடத்வம் மம பாவ யேதா
ஸூதா: க்ஷüதார்த்தா ஜனனீம் ஸ்மரந்தி

ஜகதம்ப விசித்ரமத்ர கிம்
பரிபூர்ணா கருணாஸ்தி சேன் மயி
அபராத கரம்பராவ்ருதம்
ந ஹி மாதா ஸமுபேக்ஷதே ஸூதம்

த்வத் ஸம: பாதகீ நாஸ்தி பாபாக்நி: த்வத்ஸமோ ந ஹினு
ஏவம் க்ஞாத்வா மஹாதேவீ யதா யோக்யம் ததா குருனுனு

Jul 192014
 

தமிழில் ஸ்ரீ தேவி அபராதக்ஷமாபன ஸ்தோத்ரம்

Devi aparadha kshamapana stotram in Latin Script

न मन्त्रं नो यन्त्रं तदपि च न जाने स्तुतिमहो
न चाह्वानं ध्यानं तदपि च न जाने स्तुतिकथा:
न जाने मुद्रास्ते तदपि च न जाने विलपनं
परं जाने मातस्त्वदनुसरणं क्लेशहरणम्॥1

विधेरज्ञानेन द्रविणविरहेणालसतया
विधेयाशक्यत्वात्तव चरणयोर्या च्युतिरभूत्।
तदेतत् क्षन्तव्यं जननि सकलोद्धारिणि शिवे
कुपुत्रो जायेत क्व चिदपि कुमाता न भवति॥2

पृथिव्यां पुत्रास्ते जननि बहव: सन्ति सरला:
परं तेषां मध्ये विरलतरलोहं तव सुत:
मदीयोऽयं त्याग: समुचितमिदं नो तव शिवे
कुपुत्रो जायेत क्व चिदपि कुमाता न भवति॥3

जगन्मातर्मातस्तव चरणसेवा न रचिता
न वा दत्तं देवि द्रविणमपि भूयस्तव मया।
तथापि त्वं स्नेहं मयि निरुपमं यत्प्रकुरुषे
कुपुत्रो जायेत क्व चिदपि कुमाता न भवति॥4

परित्यक्ता देवा विविधविधिसेवाकुलतया
मया पञ्चाशीतेरधिकमपनीते तु वयसि।
इदानीं चेन्मातस्तव यदि कृपा नापि भविता
निरालम्बो लम्बोदरजननि कं यामि शरणम्॥5

श्वपाको जल्पाको भवति मधुपाकोपमगिरा
निरातङ्को रङ्को विहरित चिरं कोटिकनकै:
तवापर्णे कर्णे विशति मनुवर्णे फलमिदं
जन: को जानीते जननि जपनीयं जपविधौ॥6

चिताभस्मालेपो गरलमशनं दिक्पटधरो
जटाधारी कण्ठे भुजगपतिहारी पशुपति:
कपाली भूतेशो भजति जगदीशैकपदवीं
भवानि त्वत्पाणिग्रहणपरिपाटीफलमिदम्॥7

न मोक्षस्याकाड्क्षा भवविभववाञ्छापि च न मे
न विज्ञानापेक्षा शशिमुखि सुखेच्छापि न पुन:
अतस्त्वां संयाचे जननि जननं यातु मम वै
मृडानी रुद्राणी शिव शिव भवानीति जपत:8

नाराधितासि विधिना विविधोपचारै:
किं रुक्षचिन्तनपरैर्न कृतं वचोभि:
श्यामे त्वमेव यदि किञ्चन मय्यनाथे
धत्से कृपामुचितमम्ब परं तवैव॥9

आपत्सु मग्न: स्मरणं त्वदीयं
करोमि दुर्गे करुणार्णवेशि।
नैतच्छठत्वं मम भावयेथा:
क्षुधातृषार्ता जननीं स्मरन्ति॥10

जगदम्ब विचित्रमत्र किं परिपूर्णा करुणास्ति चेन्मयि।
अपराधपरम्परापरं न हि माता समुपेक्षते सुतम्॥11

मत्सम: पातकी नास्ति पापन्घी त्वत्समा न हि।
एवं ज्ञात्वा महादेवि यथा योग्यं तथा कुरु॥12